हिमालय की गोद से

हिमालय  की  गोद  से
बहुत खुबसूरत है आशियाना मेरा ,है यही स्वर्ग मेरा,मेरु मुलुक मेरु देश

Friday, December 2, 2011

गढ़वाली कबिता : विगास

गढ़वाली कबिता : विगास


भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास
इन्नु व्हेय ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई गढ़वाल मा
इन्नु जमनु अब एई ग्याई

ढोल दमो निशांण छीं हर्च्यां ,
सरयें नाच फूल
तिम्ला कु व्हेय ग्याई
पोप ड़ी.जे. बजणु धरु धरौं मा
हे ब्वे कन्नू कुनाश
एई ग्याई
भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास
इन्नु व्हेय ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई गढ़वाल मा
इन्नु जमनु अब
एई ग्याई

अरसा , भूडा -पकोड़ा , स्वाला कल्यो का
ठंडा हुन्या
छीं सब अज्काल
गर्म
जमनु कॉकटेल कु व्हेय ग्याई जी
ढबोण्या नि जंणदा नौना अज्कल्या
पिस्युं माने पिल्सबरी व्हेय ग्याई जी
भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास
इन्नु व्हेय ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई पहाड़ मा
इन्नु जमनु अब
एई ग्याई

घ्वाडा सरणा छिन्न मोल सगोडौं मा
अब हल्या ड़ूटियाल
परमानेंट व्हेय ग्याई
भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास इन्नु आ ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई पहाड़ मा
इन्नु जमनु अब
ऐय ग्याई

सेवा
सैंमन्या बिसरी लोग नै जमना का
सब हाय हेल्लो ही व्हेय ग्याई
भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास इन्नु आ ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई पहाड़ मा
इन्नु जमनु अब
ऐय ग्याई


ब्याखुन् नि मिलदी च्या
यक्ख बजारौं मा
कच्ची पक्की और दगडी अब भैज्जी
ऐब कैम्पा कोला कु
व्हेय ग्याई
भैज्जी मिल सुण पहाड़ मा
अब विगास इन्नु आ ग्याई
गढ़वली नि बोल्दु कुई पहाड़ मा
इन्नु जमनु अब
ऐय ग्याई



रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से


Monday, August 15, 2011

हिंदी कविता : स्वंत्रता का स्वप्न






































स्वंत्रता
का स्वप्न

स्वंत्रता का स्वप्न साथियो शायद अभी अधूरा है
राजमुकुट डूबे हैं सत्ता मद में
ये जश्न क्यूँ अभी बे मतलब का
क्यूंकि विजय संघर्ष अभी अधूरा है
लोकतंत्र के गलियारे में अब
घुसपैठ करता नित भ्रस्टाचार
हाय अभागा संसद क्यूँ सूना है
लुट रहे अपने ही भारत माता को
शपथ ले लेकर
महाभारत जारी है जीवन के कुरुक्षेत्र में
तो कहीं लगता धर्म गीता का ज्ञान अभी अधूरा है
नित होता परीक्षण एकलव्य का
महंगाई के चक्र-व्यूह मे फसा हर अभिमन्यु जूझ रहा
लगता श्री राम का भी अभी तक वनवास अधूरा है
द्रोपदी का होता चिर हरण चोराहौं पर नित
कौरवौं का लगता अभी तक सर्वत्र साम्राज्य पूरा है
चारा ,यूरिया ,बोफोर्स ,शेयर थे प्रस्तावना महज
कहीं राजा ,कहीं कलमाड़ी का कोमन वेल्थ
तो कहीं राडिया का शो आजकल हाउस फ़ुल पूरा है
स्वंत्रता का स्वप्न साथियो शायद अभी अधूरा है
कहीं पूरब कहीं पश्चिम कहीं उत्तर कहीं दक्षिण
सब कुछ बिखरा खंडित खंडित "गीत " यहाँ
अखंड भारत का स्वप्न साथियों शायद अभी अधूरा है
अखंड भारत का स्वप्न साथियों शायद अभी अधूरा है
अखंड भारत का स्वप्न साथियों शायद अभी अधूरा है




स्वंत्रता दिवस पर मेरी कलम से "स्वंत्रता का स्वप्न "
रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित

Wednesday, August 10, 2011

केशव अनुरागी

केशव अनुरागी


ढोल एक समुद्र है साहब केशव अनुरागी कहता था
इसके बीसियों ताल हैं सैकड़ों सबद
और कई तो मर-खप गए हमारे पुरखों की ही तरह
फिर भी संसार में आने और जाने अलग-अलग ताल साल
शुरू हो या फूल खिलें तो उसके भी अलग
बारात के आगे-आगे चलती इसकी गहन आवाज
चढ़ाई उतराई और विश्राम के अलग बोल
और झोड़ा चांचरी पांडव नृत्य और जागर के वे गूढ़ सबद
जिन्हें सुनकर पेड़ और पर्वत भी झूमते हैं अपनी-अपनी जगह
जीवन के उत्सव तमाम इसकी आवाज के बिना जीवनहीन
यह जितना बाहर बजता है उतना अपने भीतर भी
एक पाखे से फूटते बोल सुनकर बज उठता है दूसरे पाखे का कोई ढोल
बतलाता उस तरफ के हालचाल
देवताओं को नींद से जगाकर मनुष्य जाति में शामिल करता है
यह काल के विशाल पर्दे को बजाता हुआ
और जब कोई इस संसार से जाता है
तो मृत्यु का कातर ढोल सुनाई देता है
दूर-दूर से बुला लाता लोगों को
शवयात्रा में शामिल होने के लिए
लोग कहते थे केशव अनुरागी ढोल के भीतर रहता है
ढोल सागर के भूले-बिसरे तानों को खोजनेवाला बेजोड़ गायक
जो कुछ समय कुमार गंधर्व की संगति में भी रहा
गढ़वाल के गीतों को जिसने पहुंचाया शास्त्रीय आयामों तक
उसकी प्रतिभा के सम्मुख सब चमत्कृत
अछूत के घर कैसे जन्मा यह संगीत का पंडित
और जब वह थोड़ी पी लेता तो ढोल की तानों से खेलता गेंद की तरह
कहता सुनिए यह बादलों का गर्जन
और यह रही पानी की पहली कोमल बूंद
यह फुहार यह झमाझम बारिश
यह बहने लगी नदी
यह बना एक सागर विराट प्रकृति गुंजायमान
लेकिन मैं हूं अछूत कौन कहे मुझे कलाकार
मुझे ही करना होगा
आजीवन पायलागन महराज जय हो सरकार
बिना शिष्य का गुरू केशव अनुरागी
नशे में धुत्त सुनाता था एक भविष्यहीन ढोल के बोल
किसी ने नहीं अपनायी उसकी कला
अनछपा रहा वर्षों की साधना का ढोल सागर
इस बीच ढोल भी कम होते चले गए हमारे गांवों में
कुछ फूट गए कुछ पर नई पूड़ें नहीं लगीं
उनके कई बाजगी दूसरे धंधों की खोज में चले गए
केशव अनुरागी
मदहोश आकाशवाणी नजीबाबाद की एक कुर्सी पर धंसा रहा
एक दिन वह हैरान रह गया अपने होने पर
एक दिन उसका पैर कीचड़ में फंस गया
वह अनजाने किसी से टकराया सड़क पर
एक दिन वह मनुष्यों और देचताओं के ढोल से बाहर निकल गया
अब वह रहता है मृत्यु के ढोल के भीतर


ढोल सागर के ज्ञाता आदरणीय " केशव अनुरागी " जी को समर्पित हिन्दी के ख्यात साहित्यकार मंगलेश डबराल जी की यह कविता साभार

Saturday, July 30, 2011

गढ़वाली कबिता : डिग्री

डिग्री

कैथेय कत्तेय नी मिली

त कैल अज्जी तलक द्याखी नि च
कैक्का जोग भाग़ मा लेख्यीं ही नि छाई
ता कैल अज्जी तलक चाखी ही नि च
जौंकी राई टिकईं टोप दिंण रात
उन्थेय मिली त च पर
वू भी रैं बस अट्गा -अटग मा
उन्दू जाणा की बिसुध बणया
घार-गौं बौडिक आणा की
सुध उन्थेय फिर कब्भी आई नि च

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से

गढ़वाली कविता : ख्वीन्डा सच

ख्वीन्डा सच

ख्वीन्डी व्हेय गईं दथडी थमली
पैना करा अब हत्थ
रडदा ढुंगा मनखी व्हेय गयीं
गौं व्हेय गईं सफाचट्ट
बांझी छीं पुंगडी यक्ख
पन्देरा प्व़ाड़याँ छीं घैल
थामा अब मुछियला दगडीयो
मारा अब झैल
थामा अब मुछियला दगडीयो
मारा अब झैल
अँधेरा मा छीं विगास बाटा
कन्न पवाड चुक्कापट्ट
लुटी खै याल पहाड़
मारा यूँ चप्पट
लुटी खै याल पहाड़
मारा यूँ चप्पट
झुन्गरू , बाड़ी , छंच्या वला मनखी हम
सुद्दी -मुद्दी देहरादूणी कज्जी तक बुखौला
दूसरा का थकुला मा भुल्ला
हम कज्जी तक जी खौला
छोडिक गढ़-कुमौ मुल्क रौंतेलु
परदेशी हवा मा कज्जी तक जी रौला
अयूं संयु जौला आज म्यार लाटा
भोल बौडिक त ग्वलक मा ही औला
अयूं संयु जौला आज म्यार लाटा
भोल बौडिक ग्वलक मा ही औला


रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से

Thursday, June 23, 2011

गढ़वाली कविता : पहाड़


मी पहाड़ छोवं
बिल्कुल  शान्त
म्यार छजिलू  छैल
रंगिलू घाम
और दूर दूर तलक फैलीं
मेरी कुटुंब-दरी
मेरी हैरी डांडी- कांठी
फुलौं  की घाटी
गाड - गधेरा
स्यार -सगोडा
और चुग्लेर चखुला
जौं देखिक तुम
बिसिर जन्दो सब धाणी
सोचिक की मी त स्वर्ग म़ा छौंव
और बुज दिन्दो  आँखा फिर
पट कैरिक
सैद तबही नी दिखेंदी कैथेय
मेरी खैर
मेरी तीस 

म्यारू मुंडरु   
म्यारू उक्ताट
और मेरी पीड़ा साखियौं की
जू अब बण ग्याई मी
जण 
म्यार ही पुटूग
एक ज्वालामुखी सी
 
जू कबही भी फुट सकद !
 

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से

Saturday, June 18, 2011

गढ़वाली कहानी : उक्काल काटी क सरपट

                                                           उक्काल काटी क सरपट

झंकरी बोडी कु नौनु बोडी थेय घार भटेय दिल्ली लिजाणु छाई , भारी उकाल काटी की जब वू धार मा पहुंची त बोडिल ब्वाल बुबा जरा बिसाई दयोला यम्मा |

नौनु किस्सा उन्द भटेय एक सिगरेट निकाली की सुलगाण बैठी ग्या और फिर दानी बुढडि ब्व़े थेय सम्झाणु छाई की ब्वे बस अब उकाल त कटेय ग्या पर बोडी कु मनं क्वान्सू छाई ,वेंकी आँखौं मा त बस घार - गौं -गुठीयार ,स्यार पुन्गडा , बल्द- बखरा ,घास -भ्याल ,पंदेरा -छन्छडा ही रिटणा छाई ,वींकू मन टपराणु छाई और आँखा उन्देय देखि की टुप टुप रूणा छाई |

सिगरेट कु धुँवा उड़ा की नौनल बोडी मा ब्वाल - ब्वे बस दिल्ली जा की ज़रा ईत्गा ध्यान रखि की जै कै दगडी गढ़वली मा ना बचेय और घार मा आण - जाण वाला नौना -नौनियों की घार-गौं जण भुक्की न प्ये और जै कै मा अपड़ी खैरी का बिठ्गा ना लग्ये क्याच की दिल्ली मा लोगों मा सब कुछ च पर टैम नि च |

बोडिल कुछ नि ब्वाल बस खंडेला ल आँखा फुन्जिक खोलैय की तडतड़ी उक्काल और उन्दू गौं जन्हेय दैख्यंण बैठी ग्या|

नौनल ब्वाल - ब्वे क्या देखणी छई ? उकाल त अब कटेय ग्या , बस अब त हम सरपट दिल्ली पहुंचला |

ब्वे ल ब्वाल - हाँ बुबा मी भी बस इही सोच्णु छोवं |
पर बगत कुछ भंडिया ही लग्गी ग्या सम्झण मा ?
म्यार लाटा ६० बरस कम नि हुन्दा ,इतरी छोटी धाण थेय बिंग्णा खुण ?
सैद बोडी भोत कुछ ब्वलूंण चाहणी छाई ,पर नौना ल बोडी की बात अणसुणी कैरी की ब्वाल
चल ब्वे अब भोत देर व्हेय ग्या , नथिर हमरी बस छुट जाण !

लेखक : गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से

Thursday, June 16, 2011

गढ़वाली कबिता : बसंत

कब्भी त आल बसंत
म्यार मुल्क मा भी
बिगास बणिक
व्हाला स्वील सुपिन्या साखियौं का
बरसूँ भटेय कत्गौं की टक्क आश लगीं च
आला वू बौडिकी जब धार मा
तोडिकी जाल माया भ्रम का
व्हालू उन्दंकार
रौल्युं -पंदैरौं मा
चौदिश गौं - घार म़ा
तबहि आली मौल्यार डांडी काँठीयूँ मा
बासली घुगती फिर पुन्गडियूँ - स्यारयुं -सगोंडियूँ मा
आली ज्वनि फिर दाना भ्याल पाखौं म़ा
ब्वालाला चखुला काफुल पाको
फिर डाली डालीयूँ मा
खैलाला नौना फिर फूल पातियुं मा
चौक खिल्हाण मुळ -मुळ हैन्सला
गीत ग्वेयर्र फिर डांडीयूँ म़ा लगाला
बांसोल बजै कि रोल्युं रिझाला
बल्दौं का खांकर दयें म़ा बजला
सासू - ब्वारी गीत गंजेली लगाला
गौं -गौं म़ा व्हालू रूज्गार
नौना शिक्षित बिरुजगार नि राला
नि रालू पलायन फिर पहाड़ म़ा
विनाश कु राग़स बणिक
कब्भी त आल बसंत
म्यार मुल्क मा भी
बिगास बणिक


रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से

Wednesday, June 15, 2011

गढ़वाली कविता : कट्गल

पहाड़ मा
धरु - धारौं मा - नेतौं की
गौं-गौं मा - आपदौं की
दफ्तरौं मा - सरकरी फईलौं की
घर -घरौं मा - उन्दु रडदा बेरोज्गरौं की
सैण-बज़ारौं मा - नेपली डुटीयलौं की
बिलोक मा - टवटगी बिगास योजनौं की
गाड - गद्नियों मा - भ्रष्ट परियोजनौं की
राजधानी मा - बारामषी झूठी घोषणऔं की
जिला कार्यालय मा - निकज्जू अफसरौं की
और क्वलण - कुम्च्यरौं मा - दारू का ठेक्कौं की
कट्गल लग्यीं चा !


रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह " घुर घूघुती घूर " से

Tuesday, June 14, 2011

जसवंत बाबा भारतीय सेना के अमर जवान



In 1962, when the Chinese Army invaded India from N.E.F.A., a company of Garhwal Rifles was posted somewhere on the Assam-Arunachal Pradesh border. They were ordered to vacate their post as soon as possible, but Jaswant Singh Rawat decided to stay back and for THREE DAYS, he kept the rampaging Chinese at bay almost single-handedly. He was helped by two local girls, Nuang and Sella. When the situation became hopeless and to avoid the humiliation at the hands of the enemy, he shot himself. When the Chinese came to know that the post was defended by a lone soldier, they were so enraged that they cut-off his head and took it away with them. Later, after the war subsided, a Chinese officer heard his story and impressed by his valour, returned his head to the Indian Government and also gave a brass bust in his honor. The brass bust is placed on the spot where he fought so valiantly and the place has been named JaswantGarh. The two girls who helped him were also given due credit and the pass was named after Sella and the highway named after Nuang. (courtesy Anurag Bist)

Forty years after his death, an Indian rifleman has become a 'major general' and is still believed to 'command' troops guarding the dizzy heights along the frontier with China.

Rifleman Jaswant Singh Rawat of the Fourth Garhwal Rifles, an infantry regiment, is perhaps the only soldier in the long and chequered history of the Indian Army who has earned regular promotions even after death.Rawat remained at his post at an altitude of 10,000 feet and held back advancing Chinese troops for three days all by himself during the winter war with China in 1962 along the northeastern state of Arunachal Pradesh before he was shot dead.

The rifleman may have died, but soldiers say his spirit lives on.
Rawat gets an unofficial promotion at regular intervals. He is today a major general, and the post he held to repulse the Chinese is called Jaswant Garh in recognition of his courage.

Rawat's bravery has earned him a distinct place in the Indian Army along the unfenced 1,030-km Sino-Indian border. For the troops he is their guardian angel.

Myth, folklore and superstition are so strong among the soldiers that the battle site has been converted into a Hindu temple, with troops giving Rawat the status of 'baba' or saint.

"Troops passing by this route, be it a general or a soldier, make it a point to pay their respects at the shrine of Jaswant Singh or else they invoke his curse," warned Ram Narayan Singh, a soldier.

"A major general once refused to pray at his shrine while crossing the area, saying this was just a superstition. He died in a mysterious road accident a few kilometres away."

Today at least half a dozen personnel of the Garhwal Rifles are deployed along the border with China to take care of Rawat -- as if he were alive.

"For us he is immortal and continues to protect and bless us in this treacherous mountain terrain," a Garhwal Rifles soldier posted at Rawat's shrine said.

Soldiers behave as if Rawat is still alive - an orderly cooks for him daily, makes his bed, irons his clothes and polishes his boots. His shrine is protected round the clock.

"Each morning his bed is found crumpled and his freshly ironed clothes lie crushed on the floor," another soldier said. "He is here all the time although we cannot see him."

According to locals and soldiers posted near Jaswant Garh, Rawat's spirit roams the area. Some claim dreaming about him.

"The respect Rawat commands even after his death is something very rare in the Indian Army," Major Jaideep Ghosh told IANS. "I have never seen anything like this -- a dead soldier still influencing the troops."

Legend has it that the Chinese troops after killing Rawat beheaded him and carried his torso as a trophy because he alone stood guard against the rampaging invaders - armed with just a vintage .303 rifle.

But after the ceasefire, a Chinese commander, impressed by Rawat's bravery, returned the head along with a brass bust of Jaswant Singh. The bust, created in China to honour the Indian, is now installed at the site of the battle.

"A nation that does not honour its dead warriors will perish," an army commander remarked as soldiers lit earthen lamps at night at Rawat's shrine.



Jaswant Baba temple, Tawang, India
This travel blog photo's source is TravelPod page: Day 3 : Water Pressure!


गढ़वाली सैन्य परंपरा








प्राचीन ग्रंथों में तपोभूमि हिमवन्त बदरीकाश्रम, उत्तराखंड केदारखण्ड आदि नाम से प्रसिद्ध उत्तर प्रदेश का उत्तर पश्चिमी भू-भाग का नाम गढ़वाल सन् 1950 ई. के आसपास पड़ा। ख्याति प्राप्त इतिहासकारों का यह मत है कि उस वक्त इस प्रदेश में बावन या चौंसठ छोटे-छोटे सामन्तशाही ठाकुरगढ़ थे। ऋग्वेद में इन गढ़ों की संख्या 100 है। इसलिए अनेक गढ़ वाले देश अर्थात गढ़वाला या गढ़वाल आजकल के छह जिले अपनी सांस्कृतिक, सामाजिक, भाषा और ऐतिहासिक समानता के कारण गढ़वाल नाम से जाने जाते हैं। भू-आकारिकी दृष्टि से सारा गढ़वाल क्षेत्र ऊंची-ऊंची पहाड़ियों, नदी, नालों, घने जंगल, पठार और सीढ़ीनुमा खेत वाला आने-जाने की सुविधा से रहित बड़ा ही कठिन क्षेत्र है। कठोर और कठिन स्थितियों में जीवन यापन करने की वजह से यहां का निवासी परिश्रमी और स्वाभाविक रूप से संघर्षपूर्ण जीवन बिताने का आदी होता है।
गढ़वाल क्षेत्र आदिकाल से ही वीरों की भूमि रहा है। ऋग्वेद, शतपथ ब्राह्मण और महाभारत में उल्लेखित पुरूरवा शूरवीर गंगा यमुना की उत्तरी घाटियों के निवासी थे। ऋग्वेद के अनुसार इनका निवास स्थान सरस्वती की धरती थी जो बदरीनाथ के ऊपर माणा के पास है। सिकन्दर का आक्रमण रोकने वाले पुरूरवा के वंशज राजा पुरू का गढ़ प्रदेश से अवश्य संबंध रहा होगा। इस प्रकार सिकन्दर के विरुद्ध लड़ने वाले ‘कथासी’ या ‘कथइस’ प्रजाति के लोग गढ़वाल पर्वतीय क्षेत्र के कठैत सूरमा ही थे। यूनानी इतिहासकार मेगस्थनीज के विवरण से यह संकेत भी मिलते हैं कि ग-न-गा-री (गंगा के तट पर बसे गंगाड़ी-गढ़वाल्यू) ने गंगा के किनारे एकत्रित हो सिकन्दर के विजय अभियान पर रोक लगाई थी।
गढ़वालियों के युद्ध पराक्रम से विचलित होकर तैमूरलंग ने (सन् 1368 ई.) अपना अत्याचारी अभियान देहरादून के समीप मोहन्ड से वापस कर दिया था। 17वीं शताब्दी में मुगल दरबार की यात्रा करने वाले महान वेनिस यात्री निकोलस और फ्रेंच इतिहासकार बर्नियर के इतिवृत से पता चलता है कि मुगल शासकों ने भी कई बार गढ़वाल क्षेत्र पर आक्रमण की योजना बनाई किन्तु छापामार युद्ध प्रणाली में दक्ष गढ़वाली वीरों के आगे उनकी एक न चली। औरंगजेब तो गढ़वाली वीरों के सैन्यबल एवम् युद्ध क्षमता से बहुत प्रभावित था।
गढ़वाली बहुत संवेदनशील एवं अपने आत्मसम्मान के प्रति सजग एवं सचेत रहने वाली जाति है। जातीय एवं राष्ट्रीय गौरव उसकी रग-रग में समाया है। उसमें युद्ध के प्रति स्वाभाविक रूचि और आकर्षण होता है। पूरी तरह से अनुशासनशील, वफादार और कर्तव्य के प्रति आत्मोसर्ग तक करने की प्रवृत्ति के कारण गढ़वाली एक आदर्श सैनिक होता है। गढ़वाली लोकगीत एवं लोकगाथाओं में ऐसे कई गढ़वाली वीरों का वर्णन है। कफ्फू चौहान, माधो सिंह भण्डारी, रानी कर्णावती, तीलू रौतेली जैसे अनेक वीर-वीरांगनाओं की शौर्य गाथाओं से इतिहास भरा है। 18वीं शताब्दी के आखिरी दशकों में आंतरिक कलह, दैवीय प्रकोप, भूकम्प और अकाल आदि ने गढ़वाल की आर्थिक एवं राजनैतिक स्थिति बहुत दयनीय कर दी। इस अवसर का लाभ उठाते हुए गोरखों ने कुमाऊं के रास्ते गढ़वाल पर धावा बोल दिया। उनका पहला आक्रमण सन् 1791 में हुआ किन्तु उनको लंगूरगढ़ी के पास रोक दिया गया। पर उनका दूसरा हमला सशक्त था। 1804 ई. में देहरादून के खुड़बुड़ा नामक स्थान पर गढ़वाल नरेश प्रद्युम्नशाह युद्ध करते-करते खेत रहे और गढ़वाल पूरी तरह से गोरखों के अधीन हो गया। उस काल में गढ़वाल राज्य की सीमा उत्तर में तिब्बत व दक्षिण में रामगंगा तक थी।
आगे के 12 वर्षों का ‘गुरख्याणी’ राज अत्याचार, नृशंसता और क्रूरता से भरा रहा। किन्तु अंग्रेजों के हस्तक्षेप के फलस्वरूप गढ़वाल दो भागों में विभाजित हुआ। भगीरथी अलकनन्दा व देवप्रयाग के पश्चात् गंगा का पूर्वी भाग दूहरादून समेत कम्पनी के आधिपत्य में आ गया और बाकी भाग पंवार वंशी प्रद्युम्नशाह के पुत्र सुदर्शनशाह को वापस मिल गया जिसने टिहरी नगर को अपनी नई राजधानी बनाया। और तब से गढ़वाली सेना की धीरे-धीरे उन्नति आरंभ हुई।
गढ़वाल का अधिकांश भाग कम्पनी सरकार के अधिकार में आने के बाद अंगे्रजों ने सेना का पुनर्गठन आरम्भ कर दिया। प्राकृतिक आपदा, राजनीतिक उथल-पुथल, दर्भिक्ष आर्थिक संकट आदि के कारण उस समय गढ़वालियों का मनोबल बहुत गिरा हुआ था। गोरखों के हाथों सन् 1804 ई. की हार के कारण अंग्रेज भी गोरखों की तुलना में गढ़वालियों को सैनिक दृष्टि से हीन समझते थे। इस कारण शुरू-शुरू में गढ़वालियों को गोरखा व कुमाऊं पल्टन में ही रखा गया। इस मिलीजुली पल्टन को उस समय ‘नसीरी’ या ‘सिरमौर’ बटालियन के नाम से जाना जाता था पर प्रतिभा बहुत दिनों तक छुप कर नहीं रह सकती।
‘नसीरी’ बटालियन में कई गढ़वालियों ने अपनी वीरता और रण कुशलता के आधार पर प्रसिद्धि व सम्मान पाने आरम्भ कर दिये।
इनमें बलभद्र सिंह नेगी का नाम विशेष उल्लेखनीय है, जिन्होंने सन् 1879 में कंधार के युद्ध में अफगानों के विरुद्ध अपनी अद्भुत हिम्मत, वीरता और लड़ाकू क्षमता के फलस्वरूप ‘आर्डर ऑफ मैरिट’, ‘आर्डर ऑफ ब्रिटिश इण्डिया’, ‘सरदार बहादुर’ आदि कई सम्मान पदक प्राप्त करे। उस समय दूरदृष्टि रखने वाले पारखी अंग्रेज शासक गढ़वालियों की वीरता और युद्ध कौशल का रूझान देख चुके थे। तब तक बलभद्र सिंह नेगी प्रगति करते हुए जंगी लाट का अंगरक्षक बन गया था। कहा जाता है कि बलभद्र सिंह नेगी ने ही जंगी लाट से अलग गढ़वाली बटालियन बनाने की सिफारिश करी। लम्बी बातचीत के उपरान्त लार्ड राबर्ट्सन ने 4 नवम्बर 1887 को गढ़वाल ‘कालौडांडा’ में गढ़वाल पल्टन का शुभारम्भ किया। कुछ वर्षों पश्चात् कालौडांडा का नाम उस वक्त के वाइसराय लैन्सडाउन के नाम पर ‘लैन्सडाउन’ पड़ा, जो आज भी गढ़वाल रेजिमेंटल सेंटर एवं रिकार्ड का मुख्यालय है।
गढ़वाली, कुमाऊंनी एवं गोरखा कम्पनी में थोड़ा बहुत हेर-फेर करने के पश्चात एक शुद्ध रूप से गढ़वाली पलटन बनाई गई, जिसका नाम 39वीं गढ़वाली रेजीमेंट ऑव दि इनफैन्ट्री रखा गया। इस रेजीमेंट की एक टुकड़ी को 1889 ई. में 17000 फीट की ऊंचाई पर नीति घाटी में भेजा गया, जहां इन्होंने बहुत लग्न, दिलेरी एवं कर्तव्यनिष्ठता से अपना कार्य किया, जिसके लिए इनको तत्कालीन जंगी लाट ने प्रशंसा पत्र दिए। उसके बाद 5 नवम्बर 1890 ई. में इस रेजीमेंट की 6 कम्पनियों को चिनहिल्स (बर्मा) में सीमा सुरक्षा हेतु भेजा गया। विपरीत परिस्थितियों में असाधारण शौर्य एवं साहस दिखाने के वास्ते प्रत्येक सिपाही को ‘बर्मा मेडल’ एवं ‘चिनहिल्स मेडल’ दिये गये। इस लड़ाई में 44 गढ़वाली ‘चिनहिल्स मेडल’ दिए गए। इस लड़ाई में 44 गढ़वाली सिपाही शहीद हुए। इस सफलता के फलस्वरूप 1892 ई. में रेजीमेन्ट को सम्मानजनक ‘राइफल’ की उपाधि प्रदान की गई। धनसिंह बिष्ट तथा जगत सिंह रावत की वीरता विशेष उल्लेखनीय रही जिसके वास्ते उन्हें विशेष पदवी से अभिनंदित किया गया। इसी प्रकार सन् 1897 ई. में सीमान्त प्रदेश में विद्रोही कबीलों का सफलतापूर्वक दमन करके के कारण रेजीमेन्ट को ‘पंजाब फ्रंटियर’ तथा हिस्सा लेने वाले सिपाहियों को ‘टीरी’ मेडल दिए गए।
तदुपरान्त अपनी प्रतिभा, पराक्रम तथा युद्ध कौशल दिखाने के कारण गढ़वाली पल्टनों का सैन्य स्वरूप फल-फूल कर पुनर्गठित होने लगा। कुछ फेरबदल करने के पश्चात 1901 ई. में गढ़वालियों की दूसरी बटालियन 39वीं गढ़वाली राइफल्स ऑफ बंगाल इनफैन्ट्री के नाम से खड़ी की गई। इसमें उल्लेखनीय है कि 1901 ई. में गोरखों के अलावा और किसी को भी एक से अधिक रेजीमेन्ट नहीं थी। गढ़वाली शूरवीरों को सम्मान स्वरूप सन् 1901 में सम्राट एडवर्ड के राज्याभिषेक समारोह में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया। सन् 1905 व 1906 में गढ़वालियों की दोनों बटालियनों ने चितरसाल के युद्ध में अपने साहस व वीरता का अच्छा परिचय दिया जिससे प्रसन्न होकर 1911 ई. में सम्राट जार्ज पंचम के दिल्ली दरबार में प्रतिनिधित्व करने का सौजन्य प्राप्त हुआ। इससे पूर्व 1907 में टिहरी नरेश कीर्तिशाह के शासनकाल में ‘टिहरी इम्पीरियल सफरमैन’ पल्टन की स्थापना की गई। तब तक ‘गढ़वाल ब्रिगेड’ भी बन गई थी। इस समय गढ़वाली सैनिकों की गिनती दुनिया के सर्वश्रेष्ठ साहसी व पराक्रमी योद्धाओं में होने लगी थी। गढ़वालियों को ‘मार्शल रेस’ में भी शामिल कर लिया गया।
इस सम्मान के मिलने से हर स्वस्थ, तंदुरुस्त, हृष्ट-पुष्ट गढ़वाली जवान पल्टन में भर्ती होना अपना सम्मान समझने लगा था।
गढ़वालियों की युद्ध क्षमता की असल परीक्षा प्रथम विश्व युद्ध में हुई जब गढ़वाली ब्रिगेड ने ‘न्यू शैपल’ पर बहुत विपरीत परिस्थितियों में हमला कर जर्मन सैनिकों को खदेड़ दिया था। 10 मार्च 1915 के इस घमासान युद्ध में सिपाही गब्बर सिंह नेगी ने अकेले एक महत्वपूर्ण निर्णायक व सफल भूमिका निभाई। कई जर्मन सैनिकों की खन्दक में सफाया कर खुद भी वह वीरगति को प्राप्त हुआ। उत्कृष्ट सैन्य सेवा हेतु उसे उस समय के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार ‘विक्टोरिया क्रास’ मरणोपरांत प्रदान किया गया। इसी युद्ध में फेस्ट्वर्ड की भयंकर लड़ाई हुई, जहां शीतकालीन जर्मन सेना ने मित्र राष्ट्र के कई महत्वपूर्ण ठिकानों पर कब्जा कर लिया था। यहां पहले गढ़वाल बटालियन ने छापामार तरीके से ठिकाने वापस लिए व भारी संख्या में जर्मन सैनिकों को बन्दी बनाया, जिसमें विजय ब्रिटेन को मिली। इस संघर्ष में नायक दरबान सिंह नेगी को अद्भुत रणकुशलता, वीरत्व और साहस दिखाने के वास्ते ब्रिटेन सम्राट ने उसे युद्ध भूमि में ही सर्वोच्च पुरस्कार ‘विक्टोरिया क्रास’ से अलंकृत करके गढ़वालियों का सम्मान बढ़ाया। उस समय विपक्षी जर्मन व फ्रांसीसी सैनिक भी गढ़वाली सैनिकों का लोहा मानने लगे थे। उनकी शूरवीरता तथा दिलेरी की सब जगह चर्चाएं होती थी।
सन् 1917 में पुनर्गठन व नई भर्ती के बाद गढ़वाल रेजीमेंट फिर तुर्की के विरुद्ध कुर्दिश पहाड़ियों की घमासान लड़ाई में भेजी गई, जहां कठिन परिस्थितियों में भी उन्होंने आश्चर्यजनक सफलता हासिल की। इस बीच लैंसडाउन में और भर्तियां होती रहीं। सन् 1916 और 1918 के बीच तीसरी व चौथी बटालियन भी खड़ी हो गई। इन दोनों बटालियनों ने अफगान युद्ध में विशेष वीरता का प्रदर्शन किया। चौथी बटालियन के कमांडर को अद्भुत पराक्रम के लिए मरणोपरांत ‘विक्टोरिया क्रास’ से अलंकृत किया गया। दूसरी बटालियन ने मोसोपोटामिया में तुर्क सेना को घुटने टेकने को मजबूर कर दिया व रमादि क्षेत्र पर प्रभुत्व जमा लिया। दो हजार तुर्क सेना आत्मसर्मपण के लिए बाध्य हुई। गढ़वालियों द्वारा पकड़ी गई तुर्की आर्टिलरी गन अभी भी लैन्सडाउन संग्रहालय में है। प्रथम विश्व युद्ध में अनुशासन तथा रण कौशल दिखाने के लिए ‘ड्यूफ ऑफ कनॉट’ की रॉयल पदवी से गढ़वाल राइफल्स सम्मानित हुई तथा विशेष भूमिका की स्मृति में सन् 1923 में ‘गढ़वाली सैनिक’ एक कांस्य प्रतिभा लैंसडाउन परेड ग्राउंड में सम्मान स्वरूप स्थापित की गई जो आज भी वहां है।
फिर 23 अप्रैल 1930 में गढ़वाली सैन्य इतिहास में एक युगान्तकारी घटना घटी जब नायक चन्द्रसिंह के नेतृत्व में गढ़वाली सिपाहियों ने एक शान्तिप्रिय तरीके से आन्दोलन कर रहे पेशावरी, निहत्थे जन समूह पर गोली चलाने को मना कर कोई भी दण्ड स्वीकारना श्रेयस्कर समझा। निर्दोष, निरीह, निर्बल वर्ग की रक्षा और जातिगत सम्मान का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण पेशावर की घटना है। गढ़वालियों का यह आश्चर्यचकित करने वाला साहसिक एवं राष्ट्रवादी प्रदर्शन था जिसका कालान्तर में दूरगामी प्रभाव पड़ा। इस घटना से प्रभावित होकर बाद में हजारों सैनिक आजाद हिन्द फौज की तरफ लड़े। नौसेना में भी विद्रोह की चिंगारी इसी घटना के बाद फूटी।
दूसरे विश्व युद्ध के दौरान गढ़वाली सैनिकों की पांच नई बटालियन खड़ी की गई, जिन्होंने पश्चिमी एशिया के रेगिस्तानी भू-भाग, मलेशिया से अक्रान्त बर्मा के घने जंगलों व इटली के ऊबड़-खाबड़ पठारी इलाकों में घमासान लड़ाई लड़ी व अपनी वीरता व युद्ध कौशल का परिचय दिया। इटली अभियान के दौरान तीसरी बटालियन ने गल्लावत, इरिस्ट्रिया, कारिन, कामरिन आदि स्थानों पर विजय प्राप्त की। पहली बटालियन बर्मा, उत्तरी अराकान, नगक्याडौक दर्रा, बूघीडंड और रामरी, आइसलैंड में मोर्चाबंदी की। हालांकि लड़ाई में गढ़वालियों ने गौरिल्ला रणनीति अपा कर सफलता प्राप्त की। इसके लिए इन्हें अनेक सैनिक पदकों से सम्मानित किया गया। टिहरी रियासत की ‘साइपर्स एण्ड माइनर्स फील्ड कम्पनी’ और ‘13वीं फ्रंटियर कोर्स’ अफ्रीका में लीबिया तथा मिस्र की लड़ाई में शरीक हुई।
देश की स्वतंत्रता के उपरान्त गढ़वाल रेजीमेन्ट में स्काउट, टेरिटोरियल आर्मी, इकोलोजिकल आदि कई बटालियन मिल गई। आन्तरिक सुरक्षा में भी गढ़वाली पलटनों ने उल्लेखनीय भूमिका निभाई। सन् 1948 में कश्मीर संघर्ष के दौरान उड़ी, बारामूला तथा टिथावल से पाकिस्तानियों को खदेड़ बाहर करने में गढ़वाली पलटनों ने जिस शौर्य का परिचय दिया उसके लिए उन्हें एक महावीर चक्र और 18 वीर चक्र दिए गए, जो अपने आप में एक रिकार्ड है।
20 सितम्बर 1962 ई. को चीनियों ने अरुणाचल (तत्कालीन नेफा) में सीमा पार करके अचानक हमारी फौजी चौकियों पर धावा बोल सारे देश को अचंभित कर दिया। उनको खदेड़ने की जिम्मेदारी चौथी गढ़वाल रेजीमेन्ट को मिली। गढ़वालियों ने उस बर्फानी इलाके में बिना उचित गरम कपड़ों व उपयुक्त युद्ध सामग्री के पहले तवांग व फिर नूरानांग आदि दुर्गम स्थानों पर कठोर युद्ध किया। चीनियों द्वारा सेला पर भयंकर आक्रमण को भी गढ़वालियों ने बहुत देर तक रोके रखा। उस समय कोर कमाण्डर ले. जनरल बी. एम. कौल ने अपनी पुस्तक ‘अनटोल्ड स्टोरी’ में लिखा कि जिस बहादुरी से चौथी गढ़वाल वहां लड़ी बाकी भी ऐसे ही लड़ते तो युद्ध के परिणाम कुछड और ही होते। नायक जसवंत सिंह को असीम वीरता प्रदर्शित करने पर मरणोपरांत महावीर चक्र और बटालियन को ‘बैटल आनर ऑफ नूरानांग’ से सम्मानित किया गया। चौथी गढ़वाल को नेफा के इस युद्ध में दो ‘महावीर चक्र’, सात ‘वीरता चक्र’ और एक सेना मेडल तथा एक ‘मेंशन इन डिस्पेंचज’ से अलंकृत किया गया। वीरता के ऐसे उदाहरण इतिहास में कम ही मिलते हैं।
सन् 1965 के भारत-पाक युद्ध में फिर गढ़वाली पीछे न रहे। उन्होंने राजस्थान में वीरता से लड़ एक महावीर चक्र व सेना मेडल प्राप्त किया। चौथी बटालियन ने नौशेरा, पांचवी और छठी ने पूर्वी क्षेत्र में कई वीरता पदक प्राप्त किए। फिर गढ़वाली सिपाहियों ने श्रीलंका के ‘ऑपरेशन पवन’ में जो बलिदान दिया वो किसी से छिपा नहीं है।
जून-जुलाई 1999 में कारगिल के ‘आपरेशन विजय’ के दौरान गढ़वाली योद्धाओं ने व्यापक रूप से अपनी सैनिक दक्षता, रण-कुशलता, साहस, शौर्य, अनुशासन और कर्तव्य परायणता की अप्रतिम मिसाल कायम की गढ़वाल रेजिमेंट की चार बटालियन 10वीं, 14वीं, 17वीं व 18वीं इस लड़ाई में शामिल हुई, जिन्होंने इस क्षेत्र में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण कई चोटियों व ठिकानों पर दुबारा कब्जा कर अपनी रेजिमेन्ट का सम्मान बढ़ाया। हर प्रकार से विपरीत हालातों की अनदेखी कर दुश्मन के गोलों की परवाह किए बिना इन शूरवीरों ने अंतत: देश को विजय दिलाई। गढ़वाली सैन्य इतिहास की सौ वर्ष से भी अधिक त्याग व बलिदान की परम्परा निभाते-निभाते लगभग 125 गढ़वालियों ने सर्वोच्च बलिदान देकर अपना नाम स्वर्णाक्षरों में अंकित किया।
मात्र पौड़ी जनपद से ही लगभग 28 वीरों ने अपनी प्राणों की आहुति कारगिल युद्ध में दी। ये देश का दूसरा जिला है, जहां सबसे अधिक रण-बाकुरों ने अपनी आहुति देश की खातिर दी। आबादी अनुपात में भी ये संख्या बड़ी है। इस लड़ाई में कितने ही गढ़वाली वीरों को वीर चक्र, शौर्य चक्र और सेना मेडल से सम्मानित किया गया।
किसी भी लड़ाकू रेजिमेंट की युद्ध कुशलता व बहादुरी का अंदाज प्राप्त वीरता पदक व बलिदानों से लगाया जाता है। भारतीय सेना के अनुपात में गढ़वाल राइफल्स को सर्वाधिक वीरता पदक मिलने का श्रेय है। सबसे अधिक प्राणों की आहुति भी अनुपात की दृष्टि से इन्होंने ही दी। प्रथम विश्व युद्ध में ‘विक्टोरिया क्रास’ प्राप्त करने के बाद स्वतंत्रता मिलने तक 448 वीरता पदक गढ़वाल रेजिमेंट को मिली इनमें चार ‘महावीर चक्र’ और 35 ‘वीर चक्र’ भी शामिल है। यह रेजिमेंट अब तक 30 युद्ध सम्मान और 9 युद्ध क्षेत्र के सम्मान भी प्राप्त कर चुकी है।
बहादुरी, शौर्य, निष्ठा, रण-कौशल व बलिदान के लिए विख्यात गढ़वाली सैनिकों ने देश की अखण्डता और रक्षा के लिए एक अविस्मरणीय योगदान दिया है। शक्ति का उपासक गढ़वाली वीर जरूरत पड़ने पर दुश्मन के प्राण लेने को तत्पर रहता है चाहे इसमें उसे अपनी ही बलि क्यों न देनी पड़े। गढ़वाली जांबाजों के त्याग, वीरत्व और बलिदानों की गौरवमयी गाथा सदैव स्वर्णाक्षरों में लिखी जाएगी।
Jaswant Baba temple, Tawang, India
This travel blog photo's source is TravelPod page: Day 3 : Water Pressure!


साभार : ले. क.(अ.प्रा.) डॉ. अचलानन्द जखमोला

हिंदी कविता : मौन



वर्षा !
ये  मौन तुम्हारा
करता नित संवर्धन
द्वंद मेरे अंतर्मन का
देते निमंत्रण
सुन्दर समोहक
चक्षु तुम्हारे
अधरों को मेरे
पर प्रिये !
शून्य है क्यूँ
तुम्हारा आलिंगन
और क्यूँ शांत है
मन का आँगन
जहाँ सहस्त्र स्वप्न दर्पण खंडित हुए

छन्न  से एक  एक  कर 
फिर भी है ध्वनि रहित
क्यूँ वियावान सा
वह जीवन कानन
अट्टाहास करता
प्रतिदिन
और मैं बस निहारता
एकटक
असहाय और निरुत्तर  सा
चंद्रमुखी को
सजल नेत्रौं में
योवन के मौन को
ढूंढ़ता 
शब्दहीन !


रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत :       मेरे ब्लॉग हिमालय की गोद से


Monday, June 13, 2011

हिंदी कविता :प्रतीक्षा



निहार रहा

अनंत पथ
अथाह आस
अश्रु सजल
श्वेत धवल
शीतल स्पर्श
कर स्मरित
मन का खग
करता विरह का
करुण  क्रंदन
प्रणय मिलन
अटूट बंधन
और मेरी चिर स्वामिनी
प्रिय वर्षा का
बस एक कथन
प्रिये ! मैं  लौट आउंगी
तज स्वर्ग को भी
मत होना अधीर
करना बस प्रतीक्षा मेरी
अनवरत !

रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार  सुरक्षित

स्रोत :मेरे ब्लॉग हिमालय की गोद से

हिंदी कविता :प्रणाम


निर्झर
प्रखर
चंचल
 योवन
खड़ा निष्णात
निहार रहा हिम शिखरों को
सरिता के तीर
संग वर्षा के खंजन नयन बाण
एक -एक कर
लेता ह्रदय  में
कर रहा अनवरत
असीम अमृत रस पान
शाश्वत सौन्दर्य का
धरा के
झुक कर करता
 ह्रदय   कोटि कोटि
हे मात्र भूमि  
तुझको प्रणाम !


रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित

स्रोत : मेरे ब्लॉग हिमालय की गोद से
 

Sunday, June 12, 2011

गढ़वाली कविता : हैंकि बात



जिकुड़ी रुझ्यीं राई त्यारा ही ख्यालौं  मा
अर मन राई तिसल्या बरसौं भटेय
त्वे कल्कली तक नि लग्गी
त वा बात हैंकि च

जप्णु रौं माला त्यारा ही रूपा की
आँखा बुझी  की झणी कब भटेय  
तिल ही नि पछ्याँण साकू मी
त वा बात हैंकि च

ब़िरडयूँ  रौं बाटौं  मा भी सौन्गा सरपट
त्वे खुज्याँण मा
अब  तू धार मा की जौन बणी छई
 त वा बात हैंकि च

बिराणु रौं कांडा बगत बगत
त्यार खुटौं  का
अर तू  अप्थेय देबता चिताणी रै
 त वा बात हैंकि च

दिणु रौं सहारू त्वे थेय
सुख दुःख मा बोटिक अंग्वाल
कन्नू रौं  जग्वाल कुक्कुर सी तेरी
अब तू मिथ्यै  ह़ी ढुन्ग्याणि  छई
त वा बात हैंकि च

कबहि स्वीणों मा त कबहि यकुला -यकुली 
बच्याणु रौं मी बोल्या बणिक
सरया दूणिया  छल्या सुणिक  ऐडाट  म्यारु
बस तिल ही नी सुणु 
अब त्यार कंदुड ब्यलै ग्ये होला
त वा बात हैंकि च

रौं बैठ्युं छाल मा
छाला कु ढुन्गु बणिक
बाटु देख्णु त्यारू
तू छल्या-छाल पैटी ग्ये चुपचाप
त वा बात हैंकि च

 रौं खत्णु मीठ- मीठा बचन
तिल मुख तक नी लगाई
 जू म्यार करम ही खट्टा रै होला
त वा बात हैंकि च |


रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी , सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह  " घुर घूघुती घूर " से

गढ़वाली कविता : बिरलु

 

बिलोका  की मीटिंग मा

व्हेय ग्या बिद्रोल
प्रमुख छाई कन्नू फिफराट    
चली ग्या कैरिक घपरोल
चांदु ठेक्क्दार  और पांचू प्रधान
कन्ना छाई ऐडाट
क्या व्हालू हमर ठेक्कौं कु अब
कन्न फुट कपाल
चतरू बुड्या हैसणु राई
थामिकी चिलम
बिरलु जी रुसालु
आखिर कज्जी तलक
फ्यारलू मुख दुधा की डिग्ची देखि
द्याखा धौं आखिर कज्जी तलक ?

 

रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित  गढ़वाली काव्य संग्रह   " घुर घूघुती घूर " से      


Thursday, June 9, 2011

गढ़वाली कविता : बिचरी



बिचरी तू

अर
त्यारा वू दिन
अज्जी तक नि बदला
वा बात हैंकि च 
की जू त्यारा छाई
वू बदली
गीईं
एक -एक कैरिक  | 



रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सर्वाधिकार सुरक्षित

स्रोत : मेरे अप्रकाशित  गढ़वाली काव्य संग्रह   " घुर घूघुती घूर " से
 

Sunday, May 29, 2011

गढ़वाली कविता : लोकभाषा और संस्कृति



लोक-भाषा -संस्कृति हमरी
मुल्क हिवांला की च शान
बिन भाषा और संस्कृति  का
बतावा  क्या च हमरी पछ्याँण ?

ढोल सागर की संस्कृति जक्ख
खतेंदु   छाई जागर गीतौं कु दुर्लभ ज्ञान
लोक-भाषा बिन वक्ख बतावा
भौल  कन्नू कैकी मुख दिखांण ?

मांगल गीतौं की जक्ख  बोग्दी गंगा
लोक-नृत्य
करद हिमालय कु  सिंगार 
अजर अमर संस्कृति  सांखियुं की
आवा करला यून्की  शौक- संभाल

बीरौं भड़ौं का लग्दिन पंवाडा जक्ख
धरुं धरुं  मा हुन्द उन्कू यशगान
स्वर्ग से भी सुन्दर च धरती हमरी
छोडिक इन्थेय हमल निर्भग्यो
जाण ता आखिर कक्ख  जाण ?

भाषा बचोंला  संस्कृति बचोंला
बचोंला साखियुं पुरणी पछ्याँण
भाषा छोडिकी संस्कृति छोडिकी
क्या लिजाण और कक्ख लिजाण ?

मनखी रे कैरी  सदनी
माँ- भाषा और संस्कृति कु सम्मान
गेड  मारिकी धैरी लै - यूँ बिन
नी च  तेरी कुई  पछ्याँण
नी च तेरी कुई  पछ्याँण

 


रचनाकर :गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह  " घुर घुगुती घुर " से  

     

गढ़वाली कविता : गंडेल


वे थेय नी च अब डैर
कैकी भी
ना पटवरी की
ना प्रधनौं की
ना पंचेत -प्रमुखौं की
न मंत्रियुं की
ना बड़ा बड़ा साब संतरियूँ की
किल्लेय की सब दगडिया छीं वेक्का
कन्ना छीं सब वेकि ही अज्काल जै जयकार ,
गंडेल जण अल्लगै की मुंड सर्र सर्र
बोलणा छीं दगडी
जै भ्रष्टाचार !
जै भ्रष्टाचार !
जै भ्रष्टाचार !

रचनाकर :गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत : मेरे अप्रकाशित गढ़वाली काव्य संग्रह  " घुर घुगुती घुर " से 

Tuesday, May 24, 2011

गढ़वाली कविता : घन्डूड़ी

 
मिल दद्दी  मा ब्वाल - दद्दी काश  मी  घन्डूड़ी हुन्दु
उड़  जान्दु फुर्र- फुर्र दूर परदेश भटेय
अपड़ा गौं पहाड़ जनेय
फिर उडणू  रैन्दू वल्या-पल्या सारियुं मा
डालियुं - पन्देरौं मा
खान्दू  काफल -हिन्सोला
किन्गोड़ा- तिम्ला और बेडु
पिन्दू छुंयाल धारा -मगरौं - छंछडौं  कु पाणी
बैठ्युं  रैन्दू छज्जा -तिबारी- खालियाँण  
या फिर चौक - जलोठौं   मा
दद्दी ल बवाल - म्यार लाटा
तेरि भी ब्बा सदनी बकि बात की छुयीं रैंदी
 ब्वलण  से भी बल कबही कुछ हुन्दु चा ? 
दस साल भटेय वू निर्भगी सुबेर शाम 
बिगास बिगास बसण  लग्यां छीं
कक्ख  हुणु  च वू बिगास ?
और कैकु  हुणु चा ?

जरा बतै  धौं 

रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित
स्रोत :       म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से   
 
      
         

Sunday, May 22, 2011

गढ़वाली कविता :सब गोल


संसद मा नेता 

गौं  मा प्रधान 
चौकी  मा पटवरी 
स्कूल  मा स्कूलया    
ब्लाक मा विगास-योजना 
पहाड़ मा मनखी 
और या सरया दू
णिया    
किल्लेय   छीं सब  गोल ?

 
रचनाकार : गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित

 

गढ़वाली कविता : शहीद



विन्की गुन्द्क्यली मुखडी 
बुरंशी सी ऊँठडी
मयालि आँखी
चौन्ठी मा कु तिल 
चूड़ियों की खणक
और बगत बगत गलोडियों की भुक्की पिण वली
विन्की  लटुली
नि बाँध  साकी वे थेय 
जू चली ग्या रणभूमि मा
छोड़िक  ब्वे- बाब, भैइ बहिणों
और अप्डी सोंजडया थेय
व्हेय गया शहीद 
एक और उत्तराखंड कु
मात्रभूमि की रक्षा मा
सदनी की चराह 
कैरी ग्या 
नाम रोशन
गढ़ - भूमि कु
बीरों भडौं कु
गढ़ रैफ़ल कु
देवभूमि उत्तराखंड कु                  
 
रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )              

गढ़वाली कविता : त्वै बिन



धार मा की जौन
ऋतू बसंती मौल्यार
बग्वाली की धूम
होली का हुल्करा
थोल-मेलौं -कौथिगौं  का ठट्ठा मज्जा
ग्वेरौं का बन्सुल्या गीत
खिल्यां फूल फ़्योंली और बुरांश का
और पन्देरा की बारामसी छुयीं-बत्ता
सबही बैठ्याँ छीं 
बौग मारिक
चुपचाप
त्वै बिन !   

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )          
       

Saturday, May 21, 2011

गढ़वाली कविता : ठेक्कदार

 
सूबदार,
हौल्दार ,
थाणादार ,
डिप्टी - कलक्टर ,
तहसीलदार ,
डॉ ० और प्रिंसिपल साहब
सबही  प्रवासी व्हेय
ग्यीं
अब रै ग्यीं त  बस
ठेक्कदार,
और उन्का  डूटयाल    
जू लग्याँ छीं  
दिन रात
सबुल लगांण  मा
अफ्फ अफ्फ खुण
पहाड़ मा
म्यारा कुमौं-गढ़वाल मा  !



 
रचनाकार  :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार-सुरक्षित )

गढ़वाली कविता : सम्लौंण



कुछ सुल्झयाँ 
कुछ अल्झयाँ
कुछ उक्करयाँ
कुछ खत्याँ
कुछ हरच्यां
कुछ बिसरयाँ
कुछ बिस्ग्याँ
त कुछ उन्दू बौग्याँ
कुछ हल्याँ
कुछ फुक्याँ
कुछ 
कत्तर - कत्तर हुयाँ
मेरी इन्ह  जिंदगी का पन्ना
बन बनिका  हिवांला रंगों मा रुझयाँ
चौदिश बथौं मा  उड़णा 
हैरी डांडीयूँ - कांठी
यूँ  मा
चिफ्फली रौल्यूं की ढून्ग्युं मा
पुंगडौं-स्यारौं -
गौडियों मा
फूल -पातियुं मा
भौरां - प्वत्लौं मा
डाली- बोटीयूँ मा
चौक - शतीरौं    मा 
दगड़ ग्वैर-बखरौं मा
हैल - दथडियूँ  मा
भ्याल - घस्यरियौं मा
पाणि -पंदेरौं मा
गुठ्यार- छानियौं  मा
चखुला बणिक
डंडली - डंडली  मा
टिपण लग्याँ
म्यरा द्वी
भुल्याँ - बिसरयाँ खत्याँ 
   बाला दिन 
                                             
   रचनाकार  :गीतेश सिंह नेगी ( सिंगापूर प्रवास से,सर्वाधिकार-सुरक्षित )

गढ़वाली कविता : छिल्लू मुझी ग्या


     
बैइमनौं  का राज मा -ईमनदरी कु
भ्रस्टाचरी गौं - समाज मा -धरमचरी कु
मैंहंगई का दौर मा - गरीबौं कु 
गल्दारौं  का राज मा - वफादरौं कु
ठेकदरौं का राज मा - ध्याड़ी मज्दुरौं कु
प्रधनी की चाह मा - गौं-पंचेतौं कु
अनपढ़ों  का राज मा - शिक्षित बेरोज्गरौं कु
और दरोल्यौं का राज मा - पाणि-पन्देरौं कु
    
छिल्लू  मुझी ग्या 
       
रचनाकार  : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार 
सुरक्षित )      

Tuesday, May 17, 2011

इतिहास के झरोखों से



इतिहास के झरोखों से : उत्तराखंड क़ी बीर गाथाएं (राजा धामदेव क़ी " सागर ताल गढ़ " विजय गाथा )


देवभूमि उत्तराखंड अनादि काल से ही वेदों , पुराणों ,उपनिषदों और समस्त धर्म ग्रंथों में एक प्रमुख अध्यात्मिक केद्र के रूप में जाना जाता रहा है | यक्ष ,गंधर्व ,खस ,नाग ,किरात,किन्नरों की यह  करम स्थली  रही है तो भरत जैसे प्राकर्मी और चक्रवर्ती  राजा की यह जन्म और क्रीडा स्थली रही है | यह प्राचीन  ऋषि मुनियों - सिद्धों की तप  स्थली भूमि रही है | उत्तराखंड एक और जहाँ  अपने अनुपम प्राक्रतिक  सौंदर्य के कारण  प्राचीन काल से ही मानव जाति को को  अपनी  आकर्षित तो करता रहा है तो वहीं दूसरी और केदारखंड और मानस खंड (गढ़वाल  और कुमौं ) इतिहास के झरोखों में  गढ़ों और भड़ों  की ,बलिदानी वीरों की जन्मदात्री भूमि भी कही ज़ाती रही  है | महाभारत युद्ध में इस  क्षेत्र के   वीर राजा सुबाहु (कुलिंद का राजा ) और हिडिम्बा पुत्र घटोत्कच का और अनेकों  ऐसे राजा- महाराजाओं का  वर्णन मिलता है जिन्होने कौरवों और पांडवों की और से युद्ध लड़ा था | नाग वीरों में यहाँ वीरंणक नाग (विनसर के वीर्नैस्वर भगवान ) ,जौनसार के महासू नाग (महासर नाग ) जैसे वीर आज भी पूजे जाते हैं | आज भी इन्हे पौड़ी -गढ़वाल में  डांडा  नागराजा  ,टिहरी में सेम मुखिम,कुमौं शेत्र में बेरी -  नाग ,काली नाग ,पीली नाग ,मूलनाग, फेर्री नाग ,पांडूकेश्वर में  में शेषनाग ,रत्गौं में भेन्कल नाग, तालोर में सांगल नाग ,भर गोवं  में भांपा  नाग तो नीति  घाटी में लोहान देव नाग और दूँन  घाटी में नाग सिद्ध का बामन  नाग अदि नाम से पूजा जाता है |जो प्राचीन काल में नाग बीरो कि वीरता परिभाषित करता है | बाडाहाट (उत्तरकाशी) कि बाड़ागढ़ी   के नाग बीरों कि हुणो पर विजय का प्रतीक   और खैट   पर्वत कि अन्चरियों कि गाथा (७ नाग पुत्रियाँ जो हुणो के साथ अंतिम साँस तक  तक संघर्ष  करते हुए वीरगति  का प्राप्त हो गयी थी ) आज भी " शक्ति  त्रिशूल "के रूप में आज भी नाग वीरों क़ी  वीरता क़ी गवाही देता है तो गुजुडू  गढ़ी का गर्जिया  मंदिर गुर्जर और प्रतिहार वंश के वीरों का शंखनाद करता है | यूँ तो देवभूमि वीर भड़ो और गढ़ों क़ी भूमि होने के कारण अपनी हर चोटी हर घाटी में वीरों क़ी एक गाथा का इतिहास लिये हुए है जिनकी दास्तान आज भी यहाँ के लोकगीतों ,जागर गीतों आदि के रूप में गाई ज़ाती है यहाँ आज भी इन् वीरों को यहाँ आज भी  देवरूप में पूजा जाता है |



उत्तराखंड के इतिहास में नाथ- सिद्ध प्रभाव प्रमुख भूमिका निभाता है क्यूंकि कत्युरी   वंश के राजा  बसंत देव (संस्थापक राजा )  क़ी नाथ गुरु  मत्स्येन्द्र  नाथ (गुरु गोरख नाथ के गुरु ) मे आस्था थी |१० वी शताब्दी में इन् नाथ  सिद्धों ने कत्युर वंश में अपना प्रभाव देखते हुए नाथ  सिद्ध नरसिंह देव (८४ सिद्धों मे से एक )  ने कत्युर वंश के राजा से  जोशीमठ राजगद्दी  को दान स्वरुप प्राप्त कर उस पर गोरखनाथ क़ी पादुका रखकर ५२ गढ़ूं के भवन नारसिंघों क़ी नियुक्ति क़ी जिनका उल्लेख नरसिंह वार्ता में निम्नरूप से मिलता है   :



वीर बावन  नारसिंह -दुध्याधारी नारसिंह ओचाली  नरसिंह कच्चापुरा नारसिंह नो तीस  नारसिंह -सर्प नो वीर नारसिंह -घाटे  कच्यापुरी  नरसिंह - -चौडिया नरसिंह- पोडया नारसिंह - जूसी  नारसिंह -चौन्डिया  नारसिंह कवरा नारसिंह-बांदू  बीर  नारसिंह- ब्रजवीर नारसिंह खदेर वीर नारसिंह - कप्पोवीर नारसिंह -वर का वीर नारसिंह -वैभी नारसिंह घोडा नारसिंह तोड्या नारसिंह -मणतोडा  नारसिंह चलदो नार सिंह - चच्लौन्दो   नारसिंह ,मोरो  नारसिंह लोहाचुसी  नारसिंह मास भरवा नारसिंह ,माली  पाटन नारसिंह पौन घाटी नारसिंह केदारी नारसिंह खैरानार सिंह सागरी नरसिंह ड़ोंडिया नारसिंह बद्री का पाठ थाई -आदबद्री छाई-हरी हरी द्वारी नारसिंह -बारह हज़ार कंधापुरी को आदेश-बेताल घट  वेल्मुयु भौसिया -जल मध्ये नारसिंह -वायु मध्ये  नार सिंह वर्ण मध्ये  नार सिंह   कृष्ण अवतारी नारसिंह घरवीरकर नारसिंह रूपों नार सिंह पौन धारी नारसिंह जी सवा गज फवला  जाणे-सवा मन सून की सिंगी जाणो तामा पत्री जाणो-नेत पात की झोली जाणी-जूसी मठ के वांसो  नि पाई  शिलानगरी को वासु  नि पाई (साभार सन्दर्भ डॉ. रणबीर  सिंह चौहान कृत " चौरस   की धुन्याल से " , पन्ना १५-१७)   

   
     

इसके साथ नारसिंह देव ने अपने राजकाज   का संचालन करने और ५२ नारसिंह  को मदद करने हेतु  ८५ भैरव भी  नियुक्त  स्थापित किये इसके अलावा कईं  उपगढ़ भी स्थापित   किये   गए जिनके बीर भडौं गंगू रमोला,लोधी रिखोला  ,सुरजू कुंवर ,माधो सिंह भंडारी ,तिलु रौतेली ,कफ्फु चौहान आदि के उत्तराखंड में आज भी जागर गीतौं -पवाड़ों  में यशोगान होता है |

                                                                     

                                        " सागर ताल गढ़ विजय गाथा "



इन्ही गढ़ों में से एक "सागर ताल गढ़ " गढ़ों के इतिहास में प्रमुख  स्थान रखता है जो कि भय-संघर्ष और विजय युद्ध रूप में उत्तराखंड के भडौं कि बीरता का साक्षी रहा है जो कि सोंन  नदी और रामगंगा के संगम पर कालागढ़ (काल का गढ़ ) दुधिया चोड़,नकुवा ताल आदि नामों से भी जाना जाता है | तराई -भावर का यह क्षेत्र तब माल प्रदेश के नाम से जाना  जाता था | उत्तराखंड के प्रमुख कत्युरी इतिहासकार डॉ० चौहान    के अनुसार यह लगभग दो सो फीट लम्बा   और लगभग इतना ही चौड़ा टापू पर बसा एक सात खण्डो का गढ़ था जिसके  कुछ खंड जलराशि में मग्न थेय  जिसके अन्दर ही अन्दर खैरा-  गढ़ (समीपस्थ  एक प्रमुख  गढ़ ) और रानीबाग़ तक सुरंग बनी हुयी थी | स्थापत्य   कला में  में सागर ताल गढ़ गढ़ों में   जितना अनुपम था उतना ही भय और आतंक के लिये भी जाना जाता था | सागर ताल गढ़ गाथा का प्रमुख  नायक  लखनपुर के कैंतुरी राजा  प्रीतम देव(पृथिवी पाल  और पृथिवी शाही आदि नामों से भी जाना जाता है ) और मालवा से हरिद्वार  के समीप आकर बसे  खाती क्षत्रिय राजा झहब राज कि सबसे छोटी पुत्री मौलादई (रानी जिया और पिंगला रानी आदि नाम  से भी जानी ज़ाती है  ) का नाथ सिद्धों और  धाम  यात्राओं के पुण्य से उत्पन्न प्रतापी पुत्र   धामदेव था | रानी जिया धार्मिक स्वाभाव कि प्रजा कि जनप्रिय रानी थी ,चूँकि रानी जिया के अलावा राजा पृथिवी पाल   कि अन्य बड़ी रानिया भी थी जिनको धामदेव के पैदा होते ही रानी जिया से ईर्ष्या होने लगी | धीरे धीरे धामदेव बड़ा होने लगा | उस समय माल-सलाँण अक्षेत्र   के सागर ताल गढ़ पर नकुवा और समुवा का बड़ा आतंक रहता था जो सन् १३६०-१३७७ ई ०   के मध्य  फिरोज तुगलक के अधीन आने के कारण  कत्युरी राजाओं के हाथ  से निकल गया था जिसके बाद से समुवा मशाण जिसे साणापुर (सहारनपुर ) कि " शिक" प्रदान कि गयी थी का   आंतंक चारो तरफ छाया हुआ था ,समुवा स्त्रियों  का अपरहण करके सागरतल गढ़ में चला जाता था ,और शीतकाल में कत्युरी राजाओं  का भाबर  में पशुधन  भी लुट लेता था , चारो और समुवा समैण  का आतंक मचा रहता था |



इधर कत्युरी राजमहल में रानी जिया और धाम देव के विरुद्ध  बाकी रानियौं द्वारा साजिश का खेल सज रहा था | रानियों ने धामदेव को अपने रास्ते से हटाने कि चाल के तहत राजा पृथ्वीपाल  को पट्टी पढ़ानी  शुरू कर दी और   राजपाट के  के बटवारे में रानीबाग से सागरतल गढ़ तक का भाग रानी जिया को दिलवाकर और राज को मोहपाश में बांध कर धामदेव को सागर ताल गढ़ के अबेध गढ़ को साधने हेतु उसे  मौत के मुंह  में भिजवा दिया |



पिंगला रानी माता जिया ने गुरु का आदेश मानकर विजय तिलक कर पुत्र धाम देव को ९ लाख कैंत्युरी सेना और अपने मायके  के बीर भड ,भीमा- पामा कठैत,गोरिल राजा (जो कि गोरिया और ग्वील भी कहा जाता है और जो  जिया कि बड़ी बहिन  कलिन्द्रा  का  पुत्र था ),डोंडीया  नारसिंह और भेरौं शक्ति के वीर बिजुला नैक (कत्युर राजवंश कि प्रसिद्ध राजनर्तकी छ्मुना -पातर का पुत्र ) और निसंग महर सहित सागर ताल गढ़  विजय हेतु प्रस्थान का  आदेश दिया |



धाम कि सेना ने सागर ताल गढ़ में समुवा को चारो और से घेर लिया ,इस बीच धामदेव को राजा पृथ्वीपाल कि बीमारी का समाचार मिला और उसने निसंग महर को सागर ताल को घेरे रखने कि आज्ञा देकर लखनपुर कि और रुख किया और रानियों को सबक सिखाकर लखनपुर कि गद्धी कब्ज़ा कर वापिस सागर ताल गढ़ लौट आया जहाँ समुवा कैंत्युरी सेना के भय से सागर ताल गढ़ के तहखाने में घुस गया था | ९ लाख  कैंत्युरी  सेना के सम्मुख

अब समुवा समैण छुपता फिर रहा था | गढ़ के तहखानों में भयंकर  युद्ध छिड़ गया  था और  खाणा और कटारों  कि टक्कर से सारा सागर ताल गढ़ गूंज उठा था |युद्ध में समुवा समैण मारा गया नकुवा को गोरिल ने जजीरौं  से बाँध दिया  और जब बिछुवा कम्बल ओढ़ कर भागने लगा तो धाम देव ने उस पर कटार से  वार कर उसे घायल कर दिया |चारो और धामदेव कि जय जयकार होने लगी | जब धामदेव ने गोरिल से  खुश होकर कुछ मागने  के लिये कहा तो गोरिल ने अपने पुरुष्कार में कत्युर कि राज चेलियाँ मांग ली जिससे धामदेव क्रुद्ध हो गया और गोरिल नकुवा को लेकर भाग निकला परन्तु भागते हुए धाम देव के वर से उसकी टांग घायल  हो गयी  थी | गोरिल ने नुकवा को लेकर खैरा  गढ़ कि खरेई पट्टी के सेर बिलोना  में कैद कर लिया जहाँ धामदेव से उसका फिर युद्ध हुआ और नकुवा उसके हाथ से बचकर धामदेव कि शरण  में आ गया और अपने घाटों  कि रक्षा का भार देकर धामदेव ने उसे प्राण दान दे  दिया  परन्तु बाद में जब नकुवा फिर अपनी चाल पर आ गया तो न्याय प्रिय  गोरिया (गोरिल )  ने उसका वध कर दिया  |



सागर ताल गढ़ विजय  से धामदेव कि ख्याति दूर दूर तक फ़ैल चुकी थी और मौलादेवी अब कत्युर वंश कि राजमाता मौलादई के नाम से अपनी कत्युर का राज चलाने  लगी | धामदेव को दुला शाही  के नाम से भी जाना जाता था वह कत्युर का मारझान (चक्रवर्ती ) राजा था और उसकी राजधानी वैराठ-लखनपुर थी उसके राज में सिद्धों का पूर्ण  प्रभाव  था और दीवान पद पर महर जाति के वीर   ,सात भाई निन्गला कोटि और सात भाई पिंगला कोटि  प्रमुख थे |



धामदेव अल्पायु में कि युद्ध करते हुए शहीद  हो गया था परन्तु उसकी सागर ताल गढ़ विजय का उत्सव आज भी उसके भगत जन धूमधाम से मानते है वह कत्युर वंश में प्रमुख  प्रतापी राजा था जिसके काल को कत्युर वंश का स्वर्ण काल कहा जाता है जिसमे अनेकों मठ मंदिरों का निर्माण हुआ ,पुराने मंदिरों को जीर्णोद्धार किया गया  और जिसने अत्याचारियों  का अंत किया |



वीर धाम देव तो भूतांगी होकर चला गया परन्तु आज भी सागर ताल  विजय गाथा उसकी वीरता का बखान करती है और कैंतुरी पूजा में आज भी उसकी खाणा और कटार पूजी ज़ाती है | कैंतुरी  वार्ता में "रानी जिया कि खली म़ा नौ लाख कैंतुरा  जरमी गयें " सब्द आज भी कैंतुरौं मैं जान फूंक कर पश्वा रूप में अवतरित हो जाता है और युद्ध सद्रश   मुद्रा में  नाचने लगता है धामदेव समुवा को मरने कि अभिव्यक्ति देते हैं तो नकुवा  जजीरौं  से बंधा होकर धामदेव से अनुनय विनय कि प्रार्थना करने लगता है तो विछुवा को  काले कम्बल से छुपा कर  रखा जाता है | इसके उपरान्त समैण पूजा में एक जीवित सुकर  को

गुफा में बंद कर दिया जाता है और रात में  विछुवा समैण को अष्टबलि   दी ज़ाती है जो कि घोर अन्धकार में सन्नाटे  में  दी ज़ाती है और फिर चुप चाप अंधेरे में गड़ंत करके बिना किसी से बात किये  चुपचाप आकर एकांत में वास  करते हैं और तीन दिन तक ग्राम  सीमा से बहार प्रस्थान नहीं करते अन्यथा समैण लगने का भय बना रहता है | धामदेव कि पूजा के विधान से ही समुवा कि क्रूरता और उस काल में उसके भय का बोध होता है | उसके बाद दल बल के सात  और शस्त्र और वाद्या  यंत्रों के सात जब गढ़ के समीप  दुला चोड़ में धामदेव कि पूजा होती है तो धामदेव का पश्वा और ढोल वादक गढ़ कि गुफाओं में दौड़ पड़ता  है   और तृप्त होने पर स्वयं जल से बहार आ जाता हैं उसके बाद बडे धूम धाम-धाम  से रानी जिया कि रानीबाग स्थित  समाधि "चित्रशीला " पर एक भव्य मेले का आयोजन किया जाता है |



अब इसे वीर भडौं कि वीरता का प्रभाव कहें या गढ़-कुमौनी वीरों  कि वीरता शोर्य और बलिदानी इतिहास लिखने कि परम्परा  या फिर मात्रभूमि के प्रति उनका अपार पर स्नेह ,कारण चाहे जो भी हो पर आज भी उत्तराखंडी बीर अपनी भारत भूमि कि रक्षा के लिये कफ़न बांधने वालौं  में सबसे आगे खडे नज़र आते है फिर चाहे  वह चीन के अरुणाचल सीमा युद्ध का "जसवंत बाबा " हो पाकिस्तान युद्ध के अमर शहीद ,या विश्व युद्ध के फ्रांस युद्ध के विजेता या  " पेशावर क्रांति " के   अग्रदूत  " वीरचन्द्र सिंह गढ़वाली " ,या कारगिल के उत्तराखंडी रणबांकुरे  या अक्षरधाम और मुंबई हमलों में  शहीद म़ा भारती के अमर सपूत सब आज भी उसी   " वीर  भोग्या  बसुन्धरा " कि परम्परा का निर्वाहन कर रहे हैं |




संदर्भ ग्रन्थ :  उत्तराखंड के वीर भड , डा ० रणबीर सिंह चौहान
                    गढ़वाल के गढ़ों का इतिहास एवं पर्यटन के सौन्दर्य स्थल  ,डा ० रणबीर सिंह चौहान
                    ओकले तथा गैरोला ,हिमालय की लोक गाथाएं 
                    यशवंत सिंह कटोच -मध्य  हिमालय का पुरातत्व
विशेष आभार : डॉ. रणबीर सिंह चौहान, कोटद्वार  (लेखक और इतिहासकार ) ,माधुरी रावत जी
स्रोत :म्यार ब्लॉग हिमालय क़ी गोद से (गीतेश सिंह नेगी.सिंगापूर प्रवास से )


गढ़वाली कविता : केर


क्षेत्रवाद 

जातिवाद 
भ्रष्टाचार
मेहंगैई   

बेरोजगरी  
अशिक्षा 
और पलायन 
ज़रा बंधा धौं
केर यून्की
पहाड़ म़ा 

अगर बाँध सक्दो त ?  

रचनाकार : (गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित)        

गढ़वाली कविता : गोर


कक्खी  धरम का 
कक्खी  जाति का 
त कक्खी खोख्ला रीति-रिवाजौं का
कक्खी अमीरी का
त कक्खी गरीबी का
सब्युं का छीं
अपडा -अपड़ा ज्युडा
अपड़ा -अपड़ा कीला
और अपड़ा -अपड़ा गोर
बन्धियां सांखियौं भटेय |  

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )

Sunday, May 15, 2011

गढ़वाली व्यंग :विधान सभा म़ा खच्चर



उत्तराखंड मा विधान सभा का चुनाव की घोषणा व्हेय ग्या छाई और पक्ष और विपक्ष अपड़ी - अपड़ी रणनीति बणाण  फ़र लग्याँ छाई | पार्टी अध्यक्ष द्वारा कार्यकर्ताओं और पार्टी का बड़ा वक्ताओं थेय झूठा  सौं -करार और सुप्निया दिखाणं का भारी हुकुम सदनी की  चराह  आज भी जारी हुयां छाई | उन्भी उन्थेय याक़ी अब आदत सी व्हेय गया छाई |
सब कुछ ठीक ठाक  से चलणु छाई पर अचांणचक  से  ब्याली भटेय पक्ष -विपक्ष   दुयुं की नीद उड़ीं छाई |

अब साब बात इन् व्हाई की ये  चुनाव मा एक और गुट खडू व्हेय ग्या छाई | अरे भाई कैल बनाई यु गुट ?  और आखिर कब ? पक्ष -विपक्ष येही   सोच विचार करण फ़र लग्याँ छाई |
त़ा भई- बंधो   बात इन्  छाई की गौर- भैंषा ,बल्द , बाघ-बखरा  , कुक्कुर -बिरोला , मूस्सा सब जानवर सरकार से सान्खियुं भटेय तंग त हुयां हि छाई  सो उन्  मिल-जुली एकजुट व्हेय की अपड़ी कौम का विगास  का खातिर चुनोव्   मा भाग लिणा  कु फैसला कैर द्या |

अब साब किल्लेय  की  पहाड़ मा मन्खी  त उन् भी अब कम हि रैंदी ,भंडिया लोग  अब प्रवास   कु सुख  जू भोगंण लग्यां छिन्न पर यूँ  गौर- भैंसों ,बल्द, बाघ-बखरौं ,कुक्कुर -बिरोलौंल कक्ख  जाणू  छाई यूँ डांडीयूँ कांठीयौं और गौं गुठियारौं , धार-पन्द्यरौं थेय छोडिकी और यु नेताओं कु ध्यान सौर नम्मान त़ा देहरादूण और दिल्ली
जने हि रैंद  और देहरादूण  मा भी कुछ नेता जोड़ -तोड़  और  " गढ़वाल कुमाओं " थेय मरोड़  मा हि लग्याँ रैंदी त कुछ सता - सुख भोगिकी अब पहाड़ विरोधी मानसिकता का भी व्हेय गईँ पहाड़ कु ख्याल यूँ  निर्भगियुं  थेय  सिर्फ और सिर्फ चुनोव्  का बगत मा हि आन्द नथिर यु  अशगुनी लोग इन्हेय  खुण कभी पैथिर फरकि की भी नी देख्दा और ता और पहाड़ी और पहाड़ से जुड़याँ  राजनेतिक और सामाजिक सरोकारों से भी यूँ थेय  अब कुछ लीणु दीणु नी रैंदु  उलटू पिछला दस बरसों मा यून्की विगास योजना - निति पहाड़ विरोधी मानसिकता कु  जैर से फूंकी पिल्चिं रें |

खैर नया दल कु गठन हूँण से पहाड़ म़ा बस्याँ मनखियुं थेय  भी नयी आस का सुपिन्या जगण बैठी  गईं ,पुराणा सबहि दल त उन् अच्छी तरेह से देख-चाखि याली छाई जौंकू लूँण-कटट स्वाद अभी तक उनकी जीभ म़ा लग्णु छाई ,कत्गौं थेय त भारी मरच भी लगणि छाई की दस साल म़ा क्या सोवाचु  छाई और अब  क्या हुणु  च ,कुई राजधानी का नाम फर पक्ष- विपक्ष थेय  कचोरणु  छाई त कुई पलायन और रोजगार   का नाम फर , त कुई डामौ की डम्याँण की पीड़ा का आंशु पुटुग ही पुटुग धोल्णु राई, पर निर्भगी पक्ष -विपक्ष का यु नेता जू थेय  यूँ लोगुन्ल  सैंत -पालिकी दिल्ली  और देहरादूण  कु रास्ता दिखाई वी आज पहाड़ कु रास्ता और पहाड़  का सुपिन्या  बिसरी   गईं ,बिसरी गईं सखियुं कु खैर और पीड़ा का वू दिन  ,मसूरी ,श्रीनगर, पौड़ी ,खटीमा देहरादून , मुज़फर नगर का वो दिन जब हमुल एकजुट वही की दगड़ म़ा  गीत लगई छाई ,धई लगाई  छाई ,गोली और लठ्याव् सैह  छाई | दिल्ली कु जन्तर मंतर का अन्दोलन काल का दिन भी यु सत्ता  सुख भोगी लोग चुक्कापटट कै की  बिसिर गईं  |

अब साब  पहाड़ म़ा गठित ये  नया दल का घोषणा पत्र म़ा डांडा काँठीयूँ   का समग्र पहाड़ी विकास की नयी धार साफ़ दिखेणी छाई ये  ही कारण से पहाड़  का  रैंवाशियुं और प्रेमी प्रवासियुं   कु भारी  समर्थन यूँ थेय  मिलणु छाई और पक्ष-विपक्ष   खुण भारी मुश्किल खड़ी व्हेय ग्या  छाई ,उन्ल  साम -दाम दंड भेद सभी निति अपनै पर उन्की एक नी चली और सत्ता पहाड़  का यूँ न्या क्रांतिवीरों का हत्थ म़ा ऐय ग्या |

भाई बंधो इन्ह  नै  पार्टी कु  काम-काज  कु  तरीका भी बिल्कुल अलग छाई ,उन्ल पक्ष - विपक्ष का जण कसम खाण से पहली देहरादूण म़ा अपड खुट्टा  नी राखा       बल्कि उन्ल पहली शहीद  स्मारक म़ा जैकी शहीदों  थेय श्रद्धान्जली   अर्पित कैरी  और उन्का खैरी स्वुप्नियों थेय  सम्लैकी देहरादूण की और अप्डू रुख कार | शपथ   समारोह भी बिलकुल  पहाड़ी रूप म़ा संपन्न व्हेय और लोकभाषा म़ा शपथ लेकी उन्ल अप्डू और अप्डी भाषा  दुयुं कु मान -सम्मान कार |

सभ्युंल  मिली जुली की यु फैसला कार की  " प्रजा " खच्चर  थेय राज्य कु मुख्यमंत्री कु पद दिए जाव किल्लेकी  प्रजा थेय  गढ़-कुमौं की पहाड़ की धार धार और उन्कि हर खैर - विपदा  कु भोत ज्ञान छाई और पहाड़ से वेय  थेय  भोत गहरू प्रेम भी छाई ,वेक बाद पहाड़  कु रक्षा कु  भार भोटू कुक्कुर थेय  और संपदा और संपत्ति विभाग बिरोलू  थेय  दिये ग्याई ताकि चंट चालाक  बिरोलू राज्य की परिसम्पतियुं कु ठीक से सोक संभाल कैरी साक नथिर पिछला दस बरसौं बठिं लगातार राज्य की परिसम्पत्तियुं कु भारी नुक्सान यूँ  निकम्मों का कारण से हुणु  छाई | राज्य म़ा बेरोजगारी हटाणा  कु जिम्मा ईमानदार  और कर्मठ हीरू बल्द थेय  दीये  ग्याई और धरम पर्यटन और संस्क्रती कु जिम्मा "बिंदुली गौडी " थेय और राज्य का वित्त मंत्री कु पद स्याल महाराज थेय मिल और जंगल का राजा थेय  विधान सभा कु अध्यक्ष कु पद दीये  ग्याई |

जब प्रजा पहली दिन
विधान-सभा म़ा पहुँच त़ा साब क्या ब्वन ,एक से बड़ा एक विपक्षी नेता बैठक म़ा शामिल  हुण खुण  अयां छाई| कुई अप्थेय नरन्कार कू सी पुजरू चिताणु छाई  त़ा कुई अप थेय नो छम्मी  नारायण बताणु छाई | एक नेता साब बार बार खडू व्हेय की प्रवचन  सी दींण   बैठी जाणु राई त एक तबरी बीच बीच म़ा शंख बजा  दिणु राई और जब कुई वे म़ा पुछ्णु की भाई सिन्न किल्लेय  कन्नू छई त उ सर पितली गिच्ची कैरी की कबिता पाठ सी कैरी की बोल दिणु राही की मी त कुछ भी गलत नी करणु छोवं मी फर शक  नी कारा या मी त नाम से बिना शंख कु छोवं | एक नेता साब निछंद   व्हेय की भट्ट भूजण  म़ा लग्युं छाई और दगड़ा दगड धेई लगाणु  राई  की भट्ट ले लो ,  भट्ट ले लो | एक नेता ईनू भी छाई जो अपखुण बार बार गुणा , बार बार गुणा बोल्णु  छाई  त एक नेता कपूर जालंण म़ा ही लग्युं छाई और एक नेता हड़का ही मरण म़ा लग्युं छाई , कुल मिला कै काम की बात कुई नी  करणु छाई  |               

पर साब अब राज-काज त प्रजा का हत्थ म़ा छाई   वैल  पहली चोट म़ा  विपक्ष थेय  धराशाई कैर द्याई  और राज्य की जनता की जिकुड़ी से जुड़याँ  हर पहलु और मुद्दा फर गहराई से चर्चा और सोच बिचारी की फैसला कार और राज्य म़ा पलायन रोको योजना बणे की रोजगार उन्मुखी शिक्षा प्रणाली लागू  कैरी की पहाड़ की भोगोलिक और पारिस्थितिकी का हिसाब से उधोग निति कु निर्माण कार ज्यान्कू  ज्यादा से ज्यादा  लाभ नेतौं - ठेकादारौं थेय  ना मिली की पहाड़ का शिक्षित बेरोजगारों थेय  मिल साक | शिक्षा का वास्ता वैल  पहाड़ का प्रति समर्पित और कर्मठ शिक्षकों कु चयन कार ना की मजबूर बेबस और लाचार बधवा  मजदूरों कु | पर्यटन का क्षेत्र  म़ा यूँल ग्रामीण क्षेत्र म़ा पर्यटन  विकास  योजना लागू कैरी की पहाड़ का गौं गौं थेय आधुनिक संचार का माध्यमों से सजा -सवांर द्याई  ,कंप्यूटर शिक्षा अनिवार्य कैर द्याई  और हर ब्लाक म़ा आधुनिक अस्पताल बणवा  द्याई |

पहाड़ म़ा उन्नत कृषि विकास और अनुसंधान योजना का तहत  युंल गौं गौं म़ा माट-खैड की जांच करवाई  और वेका बाद  किसानों थेय  उन्नत बीज  और ब्वई -बूतै  का  आधुनिक तरीकों कु  प्रशिक्षण  द्याई और दगड़ा दगड फसल- फल -फूल और जड़ी बुटयूँ  कु एक अच्छु और गलादारौं से रहित  बाज़ार उन्थेय द्याई  | राज्य का दूर दराज का पहाड़ी गौं -धार म़ा उन्ल बिजली -पाणी -मोटर पहुंचाई द्याई और भ्रस्टाचारी और गलादार किस्म का अफसरौं फर  ज्यूडा - संगला बाँध  दयीं  |   
  
उन्ल राज्य की लोक-कला संस्कृति -भाषा और रीती -रिवाजौं थेय भोरिकी  सम्मान दिणा का साथ देश विदेश प्रवास म़ा बस्यां पहाड़ का अनुभवी लोगौं थेय  पहाड़ का विकास  म़ा एथिर आण खुण धाद भी मार जुकी फिल्म उद्योग ,व्यापार  ,पर्यटन और शिक्षा ,चिकित्सा और कुटीर उद्योग क्षेत्र म़ा विशेष  दक्षता और अनुभव प्राप्त लोग छाई |

उन्कि लोकप्रियता दिन रात बढदा ही जाणि छाई ज्यां से  विपक्ष थेय  भारी मुंडरु  उठ्युं छाई और जब भटेय प्रजा ल   उत्तराखंड की राजधानी का मुद्दा फर  तैड-फैड करणी शुरू कार त़ा विपक्ष का मुख फर तब भटेय  झमक्ताल रुमुक्ताल सी प्वड़ी ग्याई  ,जक्ख द्याखा   प्रजा की जय जयकार हुणि छाई  | आज विपक्ष का हर पहाड़ी नेता थेय   भोत अफसोश  सी हुणु च और  वू  सोच म़ा प्वडयाँ छीं की जू काम  प्रजा खच्चर करणु च उन्  हमुल किल्लेय्य   नी कारू उन्थेय  अपनाप से घिण  सी आणि छाई  और जू ब्याली तक सदनी लोग - बागौं की भीड़ से घिरयाँ रेंदा छाई उन्थेय अब भीड़ म़ा जाण म़ा भी शर्म सी आणि छाई  |
पर लोग अब भोत खुश छीं और बुना छीं की यूँका राज से त़ा प्रजा कु राज भोत भोत बढिया चा ,काश दस बर्ष   पैल्ली प्रजा जन्नु नेता मंत्री बणदू त आज हमारू उत्तराखंड और भी ज्यादा  ठाठिलू और छजिलू  राज्य हुन्दू | 
पर  खैर कुई बात नी च अबही भी देर नी व्हाई,प्रजा - सरकार जागरुक रैली त विगास का सबही सुपिन्या एक ऩा एक दिन जरूर पूरा  व्हाला |
इन्नेह प्रजा की जय जयकार अबही भी हूँण लगीं छाई और विपक्षी मुख लुका की अपड़ा अपड़ा दोलणो  पुटुग भटेय मजबूर  और लाचार व्हेय की देखण लाग्यां छाई
की अब क्या व्हालू ,कक्खी भोल  प्रजा राजधानी का मसला फर भी अप्डू गिच्चू त नी खोली द्यालू ?    



(नोट : इस व्यंग के सबही पात्र और घटनाएं काल्पनिक हैं ,यदि कहीं कुछ भी  ऐसा घटित होता है या  हो रहा है तो उसे महज  एक संयोग मात्र  ही समझा  जाये )

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार  सुरक्षित )
स्रोत :         ( म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से ,  )

Saturday, May 14, 2011

गढ़वाली कविता : क्या व्हालू ?

गढ़वाली कविता  : क्या व्हालू  ?

जक्ख रस अलुंण्या राला
और निछैंदी मा व्हाला छंद
कलम होली कणाणि दगडी
वक्ख़ लोक-भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू  ?


जक्ख  अलंकार उड्यार लुक्यां राला 
और शब्दों  फ़र होली शान ना बाच
जक्ख गध्य कु मुख टवटूकु हुयुं रालू
और पद्य की हुईं रैली फुन्डू पछिंडी
वक्ख़  लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू  ?  


जक्ख जागर ही साख्युं भटेय सियाँ राला
और ब्यो - कारिज मा  औज्जी
दगडी ढोल-दमो अन्युत्याँ  राला
वक्ख़ लोकगीत तब बुस्याँ -हरच्यां हि त राला  
और बिचरा लोग -बाग तब  दिन -रात
वक्ख़ मंग्लेर ही  खुज्याणा  राला
वक्ख़  लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू  ?
वक्ख़  लोक -भाषा और साहित्य कु
क्या व्हालू  ?



रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार  सुरक्षित )
स्रोत :         ( म्यार ब्लॉग हिमालय की गोद से )

Wednesday, May 11, 2011

गढ़वाली कविता : किरांण

गढ़वाली  कविता : किरांण   
मिथये अचांणंचक  से ब्याली सोच प्वड़ी गईँ             
किल्लेय कि  कुई  कणाणु   भी छाई 
फफराणु  भी
छाई
द्वी चार  लोगौं का नाम लेकि 
कबही  छाती  भिटवल्णु
कबही रुणु   भी छाई
बगत बगत फिर उन्थेय  सम्लौंण भी  लग्युं छाई  
तबरी झणम्म 
से कैल
म्यार बरमंड का द्वार भिचौल द्यीं
सोचिकी मी खौलेय सी ग्युं
कपाल  पकड़ी  कि अफ्फी थेय  कोसण बैठी ग्युं
सोच्चण 
बैठी ग्युं  कि झणी  कु व्हालू  ?
मी कतैइ  नी  बिंगु
मिल ब्वाल - हैल्लो  हु आर यू ?
मे  आई  हेल्प यू ?
वीन्ल रुंवा सी गिच्चील ब्वाळ
निर्भगी  घुन्डऔं -
घुन्डऔं  तक फूकै  ग्यो
पर किरांण  अज्जी तक नी ग्याई ?
मी तुम्हरी लोक भाषा छोवं
मेरी  कदर और  पछ्याँण
तुम थेय अज्जी तक नी व्हाई  ?
सुणि  कि  मेरी संट मोरि ग्या
और मेरी  जिकुड़ी  थरथराण बैठी ग्या
 मी डैर सी ग्युं
और चदर पुटूग मुख लुका कि
स्यै ग्युं
चुपचाप से
और या बात मिल अज्जी तक कैमा नी बतै
और बतोवं  भी  त कै गिच्चल बतोवं ?
कन्नू कै
बतोवं ? कि  मी गढ़वली त  छोवं
पर मिथये
गढ़वली नी आँदी ?
पर मिथये गढ़वली नी आँदी ?

 

रचनाकार : (गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )

Monday, May 9, 2011

गढ़वाली कविता :द्वी अक्तूबर

द्वी  अक्टुबर

गांधी का देश मा
हुणी च आज गाँधी वाद की हत्या
बरसाणा  छीं  शस्त्र- वर्दी धारी
निहत्थौं फर गोली - लट्ठा
सिद्धांत कीसौं मा धैरिक
भ्रस्टाचारी व्हे ग्यीं यक्ख सब सत्ता 
जौलं दिखाणु छाई बाटू सच्चई कु
निर्भगी वू अफ्फी बिरडयाँ छीं रस्ता
ईमानदरी मुंड -सिरवणु  धैरिक नेता यक्ख 
तपणा छीं घाम बणिक संसदी देबता
दुशाषण  खड़ा छीं बाट -चौबटौं  मा द्रोपदी का 
और चुल्लौंह मा  हलैय्णी चा  सीता अज्जी तलक
और गाँधी वाद बणयूँ चा सिर्फ विषय शोध कु
बणी ग्यीं  कत्गे कठोर मुलायम  गाँधी-वादी वक्ता
अब तू ही बता हे बापू !
द्वी अक्टुबर खुन्णी जलम ल्या तिल एक बार
किल्लेय  हुन्द बार बार यक्ख
 द्वी अक्टुबर खुण फिर गांधीवाद  की हंत्या ?
निडर घुमणा छीं हत्यारा  
लिणा छीं सत्ता कु सुख  
न्यौं  सरकारौं कु धरयुं च मौन
और लुकाणा छीं गांधीवादी  मुख
और  किल्लेय  गांधीवाद  यक्ख
न्यौं -अहिंसा का बाटौं मा  लमसट्ट हुयुं च
और मिल त यक्ख तक  सुण की अज्काळ    
गाँधी का देश मा
गांधीवाद थेय  आजीवन कारावास  हुयुं च   ?
गांधीवाद थेय  आजीवन कारावास  हुयुं च   ?
गांधीवाद थेय  आजीवन कारावास  हुयुं च   ?

(उत्तराखंड आन्दोलन के अमर शहीदों को इस आस  के साथ समर्पित  की एक दिन उन्हे इन्साफ जरूर मिलेगा और उनका समग्र विकास का अधूरा स्वप्न एक दिन जरूर पूरा होगा )

रचनाकार : ( गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित )
 

Sunday, May 8, 2011

गंगनाथ जागर का सार

  गंगनाथ  जागर का सार (गंगनाथ और भाना की अमर प्रेम -गाथा ) 

अस्त्युत्तरस्याम दिशी देवतात्मा .हिमालयो नाम नगाधिराज :,
 पूर्वापरो तोयनिधि वगाह्या ,स्थित :पृथिव्याम एव मानदंड : ||  

महाकवि कालिदास के  कुमारसंभव के  उपरोक्त श्लोक पर्वत राज हिमालय की  अजर -अमर  और  विस्तृत प्राकृतिक ,बोधिक ,सामाजिक और सांस्करतिक विरासत की महता को समझने  के लिये भले ही पर्याप्त हो परन्तु नगाधिराज हिमालय के विविध और बहुआयामी सांस्करतिक  सोपानों  का वास्तविक रसपान  करने हेतु हिमालयी संस्कर्ति और जीवन शैली के सागर में ठीक वैसे ही गोता लगाना होगा  जैसे की  महापंडित राहुल सांकृत्यायन ने लगाकर  अनुभव किया था शायद उन्हे और " चातक " जैसे  प्रकृति के हर  चितेरे को हिमालय की हर श्रृंखला पर ,हर नदी घाटी पर  और हर एक  मठ -मंदिर  पर  जीवन और संस्कृति के विविध रंगों का रंग देखने को मिला हो | इस हिमालय की झलक ही ऐसी है ,ना जाने कितने लोग यहाँ आकर इसके देवत्व में लींन होकर घुमक्कड्  और बैरागी हो गए तो  ना जाने कितने लोगौं में  यहाँ आकर फिर से जीने की शक्ति का संचार हुआ |वेद -उपनिषद और   पुराण  और ना जाने क्या क्या लिखा गया पर हिमालय कहीं भी अतीत में  पूर्ण रूप से समाया नहीं जा सका और शायद ना ही यह  भविष्य में कभी  समाया जा सकेगा | एक जीवन में तो हिमालय के एक भाग का ही रसपान करना असंभव प्रतीत होता है | इसी पर्वत राज हिमालय का एक मुकुट मणि देब भूमि उत्तराखंड अपनी वैदिक -पुराणिक-अध्यात्मिक और अनुपम सांस्करतिक और  प्राकर्तिक धरोहर के लिये विश्वविख्यात है | वेदों पुराणों में उत्तराखंड को केदारखंड (गढ़वाल ) और मानसखंड (कुमायूं )के नाम से तो जाना ही जाता है परन्तु इसकी प्रत्येक  घांटी ,गंगा -यमुना सहित इसकी प्रत्येक  नदी - धारा , जीवन को एक निराले ही अंदाज  से देखने और  स्वयं  में आत्मसात   करने का निमंत्रण अवसर  देती है | इसकी प्रत्येक पहाड़ी पर होने  वाला शंखनाद अपने पीछे एक पुराणिक और ऐतिहासिक ज्ञान बोध के अनुनाद का आभास कराता    है तो इसका प्रत्येक लोक- गीत कहीं ना कहीं जीवन में एक सुखद अनुभूति के साथ झुमने का अहसास देता है | देवभूमि का  प्रत्येक  गीत चाहे वहां "झुमेलो " गीत हो चाहे वह " बसंती " गीत हो या फिर " चैती " गीत हो सभी  मनुष्य और प्रकृति के भावनात्मक सम्बन्धों  की सुरमयी अभिव्यक्ति देते हैं तो वहीं दूसरी और खुदेड गीत अतीत के सुखद ,वर्तमान के वियोग के करुण और निकट   भविष्य में आस मिलन की  सुखद भाव को प्रतिबिंबित करते हैं तो तीसरी और देव आहवाहन के विभिन्न " जागर गीत " उत्तराखंड के विभिन्न देवी देवताओं के अपने भगतों से संवाद के साक्षी बनकर उन्हे ढोल -दमो हुड़का और कंससुरी थाली पर थिरकने रीझने ,और सुख दुःख को उनसे साझा  करने  का दुर्लभ अवसर प्रदान करते हैं |
 इन्ही   जागर गीतों में सम्बंधित देवी -देबता के आवाहन के मंत्रो का लय बध समावेश होने के साथ अतीत और इतिहास के असंख्य घटनाक्रम  मंत्रो और गीत रूप मे सन्निहित होते हैं तथा प्रत्येक के आवाहन के मंत्र ,वाद्या यन्त्र , और पूजा की विधि भी अलग होती है और इनके मर्मज्ञ जिन्हे "जागरी " कहा जाता है वे भी पीढी दर पीढी  विशेष दक्षता लिये होते हैं | ये जागर गीत  उत्तराखंड की ना केवल धार्मिक आस्था  के   प्रतिक हैं अपितु ये  उसकी सामाजिक ,सांस्कृतिक ,साहित्यिक और ऐतिहासिक धरोहर के आधार स्तंभों में से एक हैं  |

  जागर गीतों के इस अथाह सागर में से एक जागर  "गंगनाथ जागर " के नाम से उत्तराखंड में जाना जाता हैं जो उत्तराखंड के कुमायूं  क्षेत्र में अपने आराध्य " गंगनाथ " और उसकी प्रेमिका " भाना " के आहवाहन के लिये लगाया जाता हैं जिसमे केवल  हुडके और कांसे की थाली का वाद्या  यन्त्र के रूप में प्रयोग होता हैं चूँकि गंगनाथ गुरु गोरखनाथ के चेले थे इसलिये जागर  में नाथ पंथी मंत्रो का प्रभाव स्पष्ट देखा  जा सकता है | 
गंगनाथ जागर में डोटी के कुंवर गंगनाथ के जन्म और उसकी  रूपवती प्रेमिका भाना के प्रेम प्रसंग और उनकी निर्मम हत्या का उल्लेख मिलता जो की सार रूप में निम्नवत हैं :

गंगनाथ जागर (गंगनाथ और भाना की करुण प्रेम गाथा ) का सार

डोटी के राजा वैभव चन्द धन धन्य से संपन थे परन्तु उन्हे और उनकी पत्नी प्योंला देवी को संतान का सुख प्राप्त नहीं हुआ था | संतान के वियोग में व्याकुल माता  प्योंला देवी ने शिव  की आराधना की ,शिव ने  प्रसन्न  होकर उन्हे स्वप्न  में दर्शन देये और कहा की यदि  प्योंला  घर के पास के  सांदंण  के  सुखे तने  पर सात दिन तक लगातार जल अर्पित करेगी और अगर सातवे दिन उसमे से एक खिलता हुआ फूल निकलेगा तो रानी को गर्भ ठहरेगा  और डोटी को अपना उत्तराधिकारी और उन्हे संतान का  मुख देखने को मिलेगा |  शिव  के आदेश से प्योंला रानी रोज रात-ब्याणी आने पर ही उठकर जल चढाती  ,राजा   वैभव चन्द को लगता की जैसे रानी संतान वियोग में पागल सी हो गयी है | अंतत  सातवे दिन सांदंण का फूल खिल उठा ,रानी प्योंला की प्रसन्ता का ठिकाना  नहीं था |कुछ दिन बाद माता प्योंला रानी को गर्भ ठहर गया और उसने एक सुन्दर, तेजवान और अदभुत बालक को जन्म दिया |

डोटी गढ़ में चारो ओर हर्ष की लहर दौड़ पड़ी | भगवन शिव के आशीर्बाद  से उत्पन्न  बालक का नाम गंगनाथ रखा गया ,राज ज्योतिष से  जब बालक के भविष्य की पूछ की गयी तो माता ओर पिता दोनों को सोच पड गए क्यूंकि ज्योतिष के अनुसार गंगनाथ १४ वर्ष बाद प्रेम -वियोग में जोगी हो जाएगा ओर डोटी को सदा के लिये छोड़ देगा |

समय के साथ गंगू बड़ा होने लगा ओर उसकी ख्याति एक दिव्य बालक के रूप में सम्पूर्ण डोटी में फैलने लगी |एक रात गंगू के स्वप्न में भाना का आना होता है ओर वह उसे अपने प्रेम वियोग के बारे में बता कर जोशी खोला (अल्मोड़ा ) आने की बात कहते है ओर कहती है की यदि वह अपनी माँ का सपूत होगा तो उससे मिलने जोशी खोला आयेगा ओर यदि मरी माँ का लड़का होगा तो डोटी में ही रहेगा |स्वप्न देखकर गंगू की नींद टूट जाती ओर वह भारी  मन  के साथ डोटी छोड़कर जोगी बन जाता है ओर हरिद्वार में आकर गुरु गोरखनाथ से शिक्षा दीक्षा लेता है वह बुक्सार विद्या का दुर्लभ ज्ञान भी प्राप्त कर लेता है |गुरु गोरखनाथ उसे  दिव्य  ओर अनिष्ठ  रक्षक   वस्त्र प्रदान करते है ओर गोरिल देव भी  (ग्वील /गोरिया /गोलू ) उन्हे अपनी शक्ति प्रदान करते हैं |

गंगनाथ चोला धारण कर बारही जोगी  बनकर भिक्षा  मांगते मांगते देवीधुरा के बन में शीतल वृक्ष  की छावं में अपना ध्यान आसन  लगाता है | ध्यान रत जोगी को देख कर लोग उसके पास पूजा अर्चना के लिये आते हैं ओर अपने दुःख समस्या आदि का कारण निवारण पूछते हैं | धीरे धीरे गंगू सारे क्षेत्र में प्रसिद्ध   हो जाता है पर भाना  का ख्याल  उससे रह रह कर उसकी   ध्यान साधना को भंग करता रहता है | अत : वह देवीधुरा को छोड़ अलख निरंजन कहता हुआ निकल पड़ता है | राह  में चलते चलते जब राहगीर घस्यारीं   गंगू  जोगी को प्रणाम   करके उसका पता पूछते है तो वह स्वयं  को डोटी का राजकुमार बताता है ओर भाना से अपने प्रेम वियोग  की अधूरी कथा- व्यथा सुनाता है ओर भाना का पता पूछता है |घस्यारिन उसे भाना की वियोग दशा का भी वर्णन करती है ओर कहती है की भाना सुंदरी अभी तक  गंगनाथ के लिये  प्रतीक्षारत है |

घस्यारिन ये  सब बात जाकर भाना  सुंदरी को बतलाती है | अगले दिन भाना इस आश के साथ की गंगनाथ उसे पहचान ही लेगा  उससे बिना सुचना दिए ,पानी के बहाने उससे  पहली बार निहारती है ओर दोनों की यह प्रथम मिलन बेला होती है | गंगनाथ ओर भाना को जोशी दीवान के आदमी जब इस प्रकार साथ देखते हैं तो जाकर इसकी सूचना दीवान को देते हैं |फिर एक साजिश के तहत होली के दिन गंगनाथ को भंग पिला कर उसको गोरखनाथ के द्वारा प्रदान अनिष्ठ रक्षक दिव्या  वस्त्र  उतार दिए  जाते हैं  | भाना विलाप करती हुई  उसके प्राणों  की दुहाई देती रहती पर उसकी एक नहीं सुनी जाती ओर अंत में गंगनाथ को विश्वनाथ   घाट पर मौत के घाट उतार  दिया जाता है | क्रोधाग्नि में जलती भाना उनको फिटगार मारती है की उन सबका घोर अनिष्ठ होगा ओर वो पानी की बूंद बूंद के लिये तरश उठेंगे ,उन्हे अन्न का एक दाना नसीब नही होगा | क्रोध में आकर दीवान भाना को भी मौत के घाट उतार देता है |

इसके कुछ दिन बाद ही सारा जोशी खोला ओर विश्वनाथ घाट डोलने लगता है ओर वहां घोर अक्काल जैसी  स्थिति उत्पन हो जाती  है जिससे  जोशी खोला के लोग भय से काँप उठते हैं ओर गंगनाथ-भाना की पूजा कर क्षमा याचना करते हैं | और उन्हे देव रूप में स्थापित करते हैं ,तब से कुमायूं के अधिकांश क्षेत्रौं में गंगनाथ जी   की देबता रूप में  पूजा अर्चना की जाती है  उनका जागर लगाया जाता है | जिसके कुछ अंश   निम्नवत हैं :

(१) प्योंला राणि को आशीष प्राप्ति का अंश
हे भुल्लू उ उ उ उ उ उ उ उ 
सुण म्यारा गंगू उ उ उ   अब ,यो मेरी बखन अ अ अ  अ अ अ अ
यो  राजा भबै  चन्न अ   तब अ अ अ  ,बड़  दुःख हई राही   हो हो ओ ओ ओ  ओ आंह ह ह ह  अ अ
हे  भुल्लू उ उ उ उ
क्या दान करैछ  अब ,यो माता प्योंला राणी ई अ अ अ
यो गंगा नौं  की नाम  तुमुल अ अ  ,यो  गध्यार नहाल हो हो हो हो  आ आ अ अ ह ह 
इज्जा गंगा नाम  की गध्यार नयाली आंह आंह आंह ह ह
हे भुल्ली इ इ  ई ई  ई ई  ई
 ये  देबता  नाम का तुमुल ,यो ढुंगा   ज्वाड़ी  व्हाला अ  अ अ अ अ अ
कैसी कन  देखि  तुमुल अ अ अ ,  यो संतानौं  मुख अ अ अ अ अ अ   आंह ह ह ह  अ अ अ
हे भुल्ली इ ई ई ई ई
को देब रूठो सी कौला यो डोटी भगलिंग अ अ अ अ अ
हाँ क्या दान करलू भग अ अ अ अ  ,ये डोटीगढ़  मझ  हो हो हो हो अ अ अ अ
औ हो हो   डोटी भागलिंग  की आन छै  ,आंह आंह आंह आंह अ अ
हे भुल्ली ई ई ई ई ई ई
यो तुम्हरी धातुन्द एगे,  तौं डोटी भगलिंग अ अ अ अ अ अ
ये  सुणिक  सपन ऐगे अ अ अ , ओ  माता प्योंला राणी  हों हों हों हों  हां हां ह अ अ
डोटी भगलिंग  जा ,माता प्योला राणि स्वीली  सपन हेगि आंह आंह आंह ह ह
हे भुल्ली ई ई ई
 त्यार  कुड़ी का रवाडी होलो , यो सांदंण कु खुंट अ अ अ अ अ अ
सात दिन तू तो राणि ई ई ई ई ई  , यो  जल चढ़ा दीये अ अ अ अ  अ अ   
इज्जा सांदंण फूल मा जल चढई  तू  आंह आंह आंह ह ह ह
हे भुल्ली ई ई ई
सात दिन कौला  अब , यो फल खिली जाल आ आ आंह आंह आंह
यो फल आयी जालू तब अ अ ,संतान हई जाली  हो हो हो हो हो आ आ अ अ  ह ह .....
इज्जा सांदंण खुंट भटेय  कल्ल  खिलल तब संतान व्हेली आंह आंह आंह ह ह ह
हे भुल्ली ई  ई ई  ई इ
 वो माता प्योंला राणि तब ,यरणित उठी जैली आंह आंह आंह आंह आंह
रात-ब्याण बगत प्योंला आंह    क्या जल चढाली  ? हो हो हो हो हो हो हो ........

 (२) गंगनाथ की गुरु गोरखनाथ जी  से दीक्षा का अंश
ए.......तै बखत का बीच में, हरिद्वार में बार बर्षक कुम्भ जो लागि रौ।
ए...... गांगू.....! हरिद्वार जै बेर गुरु की सेवा टहल जो करि दिनु कूंछे......!
अहा.... तै बखत का बीच में, कनखल में गुरु गोरखीनाथ जो भै रईं......!
ए...... गुरु कें सिरां ढोक जो दिना, पयां लोट जो लिना.....!
ए...... तै बखत में गुरु की आरती जो करण फैगो, म्यरा ठाकुर बाबा.....!
अहा.... गुरु धें कुना, गुरु......, म्यारा कान फाडि़ दियो,
मून-मूनि दियो, भगैलि चादर दि दियौ, मैं कें विद्या भार दी दियो,
मैं कें गुरुमुखी ज बणा दियो। ओ...
दो तारी को तार-ओ दो तारी को तार,
गुरु मैंकें दियो कूंछो, विद्या को भार,
बिद्या को भार जोगी, मांगता फकीर, रमता रंगीला जोगी,मांगता फकीर।
(३) मृत्यु उपरान्त जोशी खोला में गंगनाथ और भाना की आत्मा आहवान का अंश 
      (साभार :हेम सिंह बिष्ट ,नवोदय  पर्वतीय कला केंद्र ,पिथोरागढ़ )

मानी जा  हो डोटी का  कुंवर अब 
मानी जा  हो रूपवती भानाअब
जागा हो डोटी का  कुंवर अब
जागा हो रूपवती भाना अब
प्राणियों का रणवासी  छोडियो  अब
छोडियो डोटी वास
माँ का प्यार पिता का द्वार -२ , छोडियो तू ले आज
भभूती  रमाई गंगनाथा रे -२
डोटी का कुंवर गंगनाथा रे -२
रूपवती भाना गंगनाथा रे -२
ताज क्यूँ उतारी दियो नाथा रे -२
जोगी का भेष लियो  नाथा रे -२
भभूती  रमाई गंगनाथा  रे   -२

अंतत : उत्तराखंडी लोक संस्कृति  विरासत के अथाह  सागर के इस बूंद का अध्यन करने पर यह  अहसास होता है की उत्तराखंड  हिमालय में
जागर  लोकगीतों का दुर्लभ सांस्करतिक और साहित्यिक ज्ञान पहाड़ -पहाड़ पर बिखरा पड़ा  है जिसके  मर्मज्ञ लोक कलाकार धीरे धीरे कम होते जा रहे हैं जिनसे लोकगीतों की यह अमूल्य निधि विलुप्त होने के कगार  पर आ खड़ी हुयी जिसके लोक संरक्षण और संवर्धन के लिये सम्बंधित तात्कालिक सामाजिक पीढी का इन सभी लोकगीतों को समझने और एक सामाजिक ,सांस्करतिक और ऐतिहासिक परिपेक्ष में इनके संकलन  -अध्ययन  तथा अवलोकन की नितांत आवश्यकता  है |

 लेखक  - : (गीतेश सिंह नेगी , हिमालय की गोद से ,सिंगापूर प्रवास से )